• dainik kshitij kiran

तुर्की ने लीबिया में 3,800 लड़ाकों को भेजा : पेंटागन रिपोर्ट


वाशिंगटन । अमेरिका के रक्षा विभाग के महानिरीक्षक की एक नयी रिपोर्ट में कहा गया है कि तुर्की ने इस साल के पहले तीन महीनों में 3,500 से 3,800 वैतनिक सीरियाई लड़ाकों को लीबिया भेजा। यह रिपोर्ट ऐसे समय में आयी है जब तेल संपन्न लीबिया में संघर्ष एक क्षेत्रीय छद्म युद्ध में बदल गया है जिसमें विदेशी शक्तियां हथियार और किराये के सैनिक भेज रही हैं। लीबिया में रूस के बढ़ते प्रभाव से चिंतित अमेरिकी सेना ने अपनी सक्रियता बढ़ा दी है। रूस के सैकड़ों सैनिकों ने लीबिया की राजधानी त्रिपोली पर कब्जा जमाने के एक अभियान का समर्थन किया है। अफ्रीका में आतंकवाद के खिलाफ अभियानों पर यह रिपोर्ट बृहस्पतिवार को प्रकाशित हुई। इसमें कहा गया है कि तुर्की ने लीबिया के कमांडर खलीफा हफ्तार के खिलाफ लड़ रहे किराये के हजारों लड़ाकों को वेतन दिया और उन्हें नागरिकता की पेशकश दी। लड़ाकों के चरमपंथियों से संबंधों की खबरों के बावजूद इस रिपोर्ट में कहा गया है कि अमेरिकी सेना को ऐसे कोई सबूत नहीं मिले जिससे पता चले कि किराये के लड़ाकों का संबंध आतंकवादी समूह इस्लामिक स्टेट या अल-कायदा से है। इसमें कहा गया है कि इन लड़ाकों के किसी विचारधारा या राजनीति के बजाय वित्तीय पैकेज से प्रेरित होने की अधिक संभावना है। रिपोर्ट में अमेरिका अफ्रीका कमान के हवाले से कहा गया है कि तुर्की के समर्थन वाले 300 सीरियाई लड़ाके अप्रैल की शुरुआत में लीबिया पहुंचे। महानिरीक्षक ने कहा कि तुर्की ने इस साल के शुरुआती महीनों के दौरान तुर्की के सैनिकों को तैनात किया जिनकी तादाद अभी मालूम नहीं है।

0 views0 comments

Recent Posts

See All

डोनाल्ड ट्रंप ने हमेशा के लिए अपने सोशल मीडिया अकाउंट्स बंद किए

वॉशिंगटन, । अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने सोशल मीडिया की दिग्गज कंपनियों के फेसबुक और ट्विटर द्वारा प्रतिबंधित किए जाने के बाद हमेशा के लिए अपने सोशल मीडिया अकाउंट को बंद कर दिया है। उ

डब्ल्यूएचओ ने कहा, भारत में मिला कप्पा नहीं, सिर्फ डेल्टा वैरिएंट ही खतरनाक

संयुक्त राष्ट्र, । कोविड-19 के बी.1.617 स्ट्रेन का डेल्टा यानी बी.1.617.2 वैरिएंट ही दुनिया के लिए चिंता का विषय है। यह तथ्य विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के अध्ययन में सामने आया है। ज्ञातव्य है

छिन सकती है नेतन्याहू की कुर्सी, इजराइल में सरकार बनाने के लिये विरोधी विचारधारा के दल एकजुट हुए

यरुशलम । करीब दो हफ्ते पहले जब इजराइल देश में सबसे बुरे सांप्रदायिक तनाव से जूझ रहा था, गाजा से रॉकेटों की बौछार हो रही थी, तब कौन सोच सकता था कि वामपंथी, दक्षिणपंथी और मध्यमार्गी जैसी विरोधी विचारधार