• dainik kshitij kiran

डब्ल्यूएचओ ने लोपिनावीर/ रिटोनावीर दवाओं के सॉलिडरिटी ट्रायल पर लगायी रोक


जिनेवा । विश्व स्वास्थ्य संगठन (डबल्यूएचओ) ने अस्पताल में भर्ती कोरोना वायरस (कोविड-19) मरीजों की मृत्यु दर में बहुत मामूली कमी होने अथवा कोई कमी नहीं आने के कारण लोपिनावीर / रिटोनावीर दवा के सॉलिडरिटी ट्रायल पर रोक लगाने की घोषणा की है।डबल्यूएचओ ने शनिवार को बयान जारी कर कहा, डब्ल्यूएचओ ने हाइड्रोक्सीक्लोरोच्ीन और लोपिनावीर / रिटोनावीर दवा के परीक्षण पर रोक लगाने की अंतरराष्ट्रीय परिचालन समिति की अनुशंसा आज स्वीकार कर ली। डब्ल्यूएचओ ने कहा कि यह फैसला इन दवाओं के सॉलिडरिटी ट्रायल के आंतरिक नतीजों के मद्देनजर लिया गया है।डब्ल्यूएचओ ने कहा, हाइड्रोक्सीक्लोरोच्ीन और लोपिनावीर / रिटोनावीर दवा के इस्तेमाल के बाद आए आंतरिक नतीजों से पता चला है कि इसके कारण अस्पताल में भर्ती कोविड-19 के मरीजों की मृत्यु दर में मामूली कमी हो रही है या कोई कमी नहीं हो रही है। इन दवाओं का सॉलिडरिटी ट्रायल तत्काल प्रभाव से स्थगित कर दिया गया है। संगठन का यह फैसला हालांकि सिर्फ अस्पतालों में भर्ती मरीजों पर लागू होगा। मरीज के अस्पताल में भर्ती होने से पूर्व या अस्पताल से छुट्टी मिलने के बाद इसको लेकर होने वाले अध्ययन पर असर नहीं पड़ेगा। संगठन ने अस्पताल में भर्ती मरीजों पर इसके असर का पता लगाने के लिए मार्च में इसका सॉलिडरिटी ट्रायल करने की शुरुआत की थी।

0 views0 comments

Recent Posts

See All

डोनाल्ड ट्रंप ने हमेशा के लिए अपने सोशल मीडिया अकाउंट्स बंद किए

वॉशिंगटन, । अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने सोशल मीडिया की दिग्गज कंपनियों के फेसबुक और ट्विटर द्वारा प्रतिबंधित किए जाने के बाद हमेशा के लिए अपने सोशल मीडिया अकाउंट को बंद कर दिया है। उ

डब्ल्यूएचओ ने कहा, भारत में मिला कप्पा नहीं, सिर्फ डेल्टा वैरिएंट ही खतरनाक

संयुक्त राष्ट्र, । कोविड-19 के बी.1.617 स्ट्रेन का डेल्टा यानी बी.1.617.2 वैरिएंट ही दुनिया के लिए चिंता का विषय है। यह तथ्य विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के अध्ययन में सामने आया है। ज्ञातव्य है

छिन सकती है नेतन्याहू की कुर्सी, इजराइल में सरकार बनाने के लिये विरोधी विचारधारा के दल एकजुट हुए

यरुशलम । करीब दो हफ्ते पहले जब इजराइल देश में सबसे बुरे सांप्रदायिक तनाव से जूझ रहा था, गाजा से रॉकेटों की बौछार हो रही थी, तब कौन सोच सकता था कि वामपंथी, दक्षिणपंथी और मध्यमार्गी जैसी विरोधी विचारधार