• dainik kshitij kiran

ज्ञान सार

एक शिष्य साधु के आश्रम पर पहुंचा और साधु से शिष्य बनाने की प्रार्थना करने लगा। साधु ने उससे कहा कि आप बहुत बुद्धिमान हो, जो कुछ आप जानते हो उसे लिखकर मेरे पास लाओ ताकि मैं तुम्हें वही ज्ञान दे सकूं जो तुम्हारे पास नहीं है। शिष्य ने लिखना आरंभ किया और तीन माह की अथक मेहनत के बाद पूरी पोथी लिख डाली। वह साधु के पास पहुंचा। साधु ने कहा इस पोथी का संक्षिप्त सारांश लिखकर लाओ ताकि मुझे पढऩे में आसानी हो सके। शिष्य ने ज्ञान को हजारों पृष्ठों से समेट कर 100 पृष्ठों में लिख दिया। एक माह बाद फिर आश्रम पहुच गया। साधु बोला, मुझे यह पढऩे में परेशानी हो रही है, इसीलिए इसे केवल एक वाक्य में लिखकर लाओ। शिष्य ने पृष्ठों का सार एक वाक्य में लिखा। अब साधु ने कहा, मैं बूढ़ा हो गया हूं, कभी भी मर सकता हूं। इस सार को और संक्षिप्त करके लाओ। शिष्य जल्दी से आश्रम के दूसरे कक्ष में गया और कुछ देर सोचने के बाद लौटकर उसने एक कोरा कागज साधु के चरणों में रख दिया। साधु अंतिम सांसें ले रहा था। वह शिष्य से बोला, ‘हां, अब तुम मेरे शिष्य बनने योग्य हो गए हो, परन्तु मैं अब रुक नहीं सकता। तुम्हारा गुरु तो नहीं बन सका लेकिन तुम्हें शिष्यत्व दे चला। यह कहकर साधु ने प्राण त्याग दिए।


प्रस्तुति : सुरेन्द्र सिंह ‘बागी’


0 views0 comments

Recent Posts

See All

सोने की लंका लुटी पांच सितारा उपचार में

आलोक पुराणिक कबीरदास सिर्फ संत ही नहीं थे, अर्थशास्त्री थे। उनका दोहा है—सब पैसे के भाई, दिल का साथी नहीं कोई, खाने पैसे को पैसा हो रे, तो जोरू बंदगी करे, एक दिन खाना नहीं मिले, फिरकर जवाब करे। सब पैस

पश्चिम बंगाल में चुनावी कटुता भुलाने का समय

कृष्णमोहन झा/ पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी और केंद्र की मोदी सरकार के बीच टकराव का जो सिलसिला ममता बनर्जी के दूसरे कार्यकाल में प्रारंभ हुआ था वह उनके तीसरे कार्यकाल की शुरुआत में ही पहले स

उत्पादकता बढ़ाने में सहायक हो ऋ ण

भरत झुनझुनवाला वर्तमान कोरोना के संकट को पार करने के लिए भारत सरकार ने भारी मात्रा में ऋण लेने की नीति अपनाई है। ऋण के उपयोग दो प्रकार से होते हैं। यदि ऋण लेकर निवेश किया जाए तो उस निवेश से अतिरिक्त आ