चार वर्ष पहले पूरा हुआ बाघों की संख्या दोगुना करने का लक्ष्य: जावडेकर


नईदिल्ली । केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण तथा वन एवं पर्यावरण मंत्री प्रकाश जावडेकर ने संकल्प से सिद्धि के तहत बाघों की संख्या दोगुनी करने के लक्ष्य को निर्धारित समय से चार वर्ष पहले पूरा करने और इसे गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में दर्ज किये जाने को वन्यजीव सर्वेक्षण के लिए महान क्षण और आत्मनिर्भर अभियान का एक उत्कृष्ट उदाहरण बताया है।

देश में बाघों की गिनती के लिए 26,760 स्थानों पर 139 अध्ययन किए गए थे। इस सर्वे के दौरान साढ़े तीन करोड़ से ज्यादा बाघों की फोटो ली गयी। देश में इस समय 2967 बाघ हैं। इस सर्वे ने एक नया रिकॉर्ड कायम किया है और इस विशाल सर्वे को गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में स्थान मिला है।

जावड़ेकर ने शनिवार को इस सर्वे को गिनीज बुक आफ वर्ल्ड में जगह मिलने पर प्रसन्नता व्यक्त करते हुए ट्वीट किया, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में भारत ने संकल्प से सिद्धि के माध्यम से लक्ष्य से चार साल पहले बाघों की संख्या को दोगुना करने का संकल्प पूरा किया। ऑल इंडिया टाइगर एस्टीमेशन का सबसे बड़ा कैमरा ट्रैप अब गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में शामिल हुआ। वन्यजीव सर्वेक्षण के लिए वास्तव में यह एक महान क्षण और आत्मनिर्भर अभियान का एक उत्कृष्ट उदाहरण है।

0 views0 comments