गरीब केवल अभाव में रहने के लिए पैदा नहीं हुआ, उसे भी अच्छा जीवन जीने का है अधिकार : मुख्यमंत्री श्री


भोपाल (निप्र)। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि प्रदेश के हर गरीब को मकान मालिक बनाने का अभियान जारी है। राज्य सरकार का संकल्प है कि हर गरीब के चेहरे पर सुकून हो और उसके बच्चों के चहरों पर मुस्कान हो। वास्तव में यही सामाजिक न्याय है। गरीब केवल गरीब रहने के लिए पैदा नहीं हुआ है। उसे भी अच्छा जीवन जीने का अधिकार है। गरीब की जिंदगी बदलना हमारा लक्ष्य है। बाबा साहेब अम्बेडकर स्वतंत्रता, समानता और सबको आगे बढऩे के अवसर उपलब्ध कराने के लिए समर्पित थे। अंतिम पंक्ति के अंतिम व्यक्ति के लिए सामाजिक, आर्थिक समानता और न्याय का सपना यदि किसी ने साकार किया है, तो वह केवल बाबा साहेब भीमराव अम्बेडकर ने किया। राज्य सरकार बाबा साहेब के सामाजिक समरसता और सामाजिक न्याय के सपने को साकार करने में कोई कसर नहीं छोड़ेगी।

मुख्यमंत्री श्री चौहान, भारत रत्न, बाबा साहेब डॉ. भीमराव अंबेडकर की 131वीं जयंती पर मोतीलाल नेहरू स्टेडियम भोपाल में आयोजित राज्य स्तरीय समारोह को संबोधित कर रहे थे। कार्यक्रम की अध्यक्षता जनजातीय कार्य एवं अनुसूचित जाति कल्याण मंत्री सुश्री मीना सिंह ने की। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कार्यक्रम का दीप जलाकर शुभारंभ किया। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने डॉ. अंबेडकर के चित्र पर माल्यार्पण भी किया।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि बाबा साहेब अम्बेडकर कहते थे कि मनुष्य का जीवन लंबा होने के बजाए महान होना चाहिए। वे अद्भुत प्रतिभा के धनी थे। भारत में दलितों, पीडि़तों, शोषितों और उपेक्षितों के आर्थिक और सामाजिक सशक्तिकरण के वे सबसे प्रबल पुँज थे। बाबा साहेब अम्बेडकर ने ही भारत के करोड़ों नागरिकों को वोट देकर सरकार चुनने और विविधता होते हुए भी एकता और समानता का अधिकार दिलाया। बाबा साहेब के विचारों के परिणामस्वरूप ही देश के नागरिकों को अभिव्यक्ति, विश्वास, धर्म और उपासना की स्वतंत्रता का अधिकार मिला।मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की पहल पर देश में बाबा साहेब अम्बेडकर को समर्पित पंचतीर्थ की स्थापना हुई। मुख्यमंत्री तीर्थ-दर्शन योजना में पंचतीर्थ को सम्मिलित किया जाएगा, जिससे बाबा साहेब के अनुयायी सुविधाजनक उनसे सम्बंधित स्थलों का दर्शन कर सकें। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि बाबा साहेब ने शिक्षित बनने के लिए प्रेरित किया। उनके दिखाए मार्ग के अनुसार अनुसूचित जाति वर्ग के विद्यार्थियों को उच्च शिक्षा और प्रतियोगिता परीक्षाओं के लिए राज्य सरकार हर संभव सहायता उपलब्ध करा रही है। प्रदेश में अजा वर्ग के छात्रावासों के लिए पर्याप्त बजट का प्रावधान किया गया है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि शासकीय सेवा में भर्ती के साथ रोजगार के अन्य अवसर उपलब्ध कराने के लिए भी विभिन्न योजनाएँ संचालित हैं। प्रदेश में प्रतिमाह एक दिन रोजगार दिवस के रूप में मनाया जा रहा है, जिसमें लाखों युवाओं को रोजगार मिल रहा है।


प्रतिमाह रोजगार दिवस मानाने का यह क्रम जारी रहेगा।


मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री मोदी द्वारा दीपावली तक प्रति व्यक्ति पाँच किलो नि:शुल्क राशन की व्यवस्था की गई है। यह संत रविदास के संदेश "ऐसा चाहूँ राज मैं, जहाँ मिले सबन को अन्न-छोट बड़ों सब सम यसे, रविदास रहे सदा प्रसन्न की भावना को मूर्तरूप देने का प्रयास है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि राज्य सरकार ने गरीबों के मकानों के लिए 10 हजार करोड़ रूपए का प्रावधान किया है। अगले तीन साल में प्रतिवर्ष 10 लाख आवास गरीबों को उपलब्ध कराए जाएंगे। राज्य सरकार कुल 30 लाख मकान बनाकर गरीबों को उपलब्ध कराएगी। माफिया से मुक्त कराई गई 21 हजार एकड़ जमीन भी गरीबों को बांट दी जाएगी। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने प्रत्येक परिवार को आवासीय पट्टा उपलब्ध कराने के लिए शुरू की गई मुख्यमंत्री भू-आवासीय अधिकार योजना की भी जानकारी दी। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि हर गरीब बहन की प्रतिमाह आय न्यूनतम 10 हजार रूपए हो, यह सुनिश्चित करने के लिए स्व-सहायता समूहों के माध्यम से प्रयास किया जा रहा है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कोविड काल में की गई व्यवस्थाओं, मुफ्त टीकाकरण तथा इलाज के लिए आयुष्मान योजना के संबंध में भी चर्चा की।


मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रत्येक व्यक्ति को सम्मान और सुरक्षा देना तथा भाईचारा बनाए रखना हमारा कर्त्तव्य है। प्रदेश में यदि किसी ने दंगा फैलाया, तो उसे छोड़ा नहीं जाएगा। हमारा प्रदेश शांति का टापू है। प्रदेश में शांति व्यवस्था बनाए रखने के लिए दंगाइयों के विरूद्ध कड़ी कार्यवाही की जाएगी। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने आगर-मालवा और रीवा में अपराधियों के विरूद्ध कार्यवाहियों का उल्लेख करते हुए कहा कि अपराधी, किसी भी धर्म या जाति का हो उसे छोड़ा नहीं जाएगा। प्रदेश में हर जाति, धर्म और समाज का व्यक्ति सुरक्षित है। सामाजिक सद्भाव, बंधुत्व, भाईचारा और सर्वधर्म सम्भाव हमारे लिए सर्वोपरि है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि हाल ही में खरगोन में हुई अशांति में जिन परिवारों के घर जले हैं, उन्हें राज्य सरकार घर बनाकर देगी।


मुख्यमंत्री श्री चौहान ने राज्य स्तरीय कार्यक्रम में अनुसूचित जाति वर्ग की कल्याणकारी योजनाओं का शुभारंभ किया। मुख्यमंत्री श्री चौहान द्वारा मुख्यमंत्री उद्यम क्रांति योजना योजना सहित अन्य हितग्राही मूलक योजनाओं में हितग्राहियों को स्वीकृति-पत्र एवं हितलाभ प्रदान किए गए। प्रधानमंत्री आदर्श ग्राम योजना में 604 ग्रामों को सिंगल क्लिक से आदर्श ग्राम घोषित किया। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने अत्याचार निवारण अधिनियम योजना (पी.ओ.ए. एक्ट) का पारदर्शी क्रियान्वयन सुनिश्चित करने के लिए ऑनलाइन स्वीकृति की प्रक्रिया का एमपी टॉस पर सिंगल क्लिक से शुभारंभ किया।


जनजातीय कार्य एवं अनुसूचित जाति कल्याण मंत्री सुश्री मीना सिंह ने मुख्यमंत्री श्री चौहान का स्वागत किया तथा विभागीय जानकारियाँ प्रस्तुत की। उन्होंने अंबेडकर जयंती की शुभकामनाएँ देते हुए कहा कि बाबा साहब अंबेडकर द्वारा स्थापित की गई संवैधानिक व्यवस्था के परिणामस्वरुप ही हम सुरक्षित हो पाए और हम सब की प्रगति संभव हुई है।


लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री डॉ. प्रभुराम चौधरी ने कहा कि मध्यप्रदेश, बाबा साहेब अंबेडकर की जन्म-स्थली है। यह प्रदेशवासियों के लिए गर्व का विषय है। मुख्यमंत्री श्री चौहान के नेतृत्व में सर्वहारा वर्ग के कल्याण के लिए प्रदेश में विभिन्न योजनाएँ जारी हैं। मुख्यमंत्री श्री चौहान, डॉ. अंबेडकर की मंशा के अनुरूप गरीबों, शोषितों के कल्याण के लिए हर पल समर्पित हैं।


जल-संसाधन मंत्री श्री तुलसीराम सिलावट ने कहा की बाबा साहेब अंबेडकर ने अन्याय के विरूद्ध आवाज उठाई। वे असमानता और भेदभाव के विरूद्ध थे। बाबा साहेब अंबेडकर ने वंचित वर्ग के सामाजिक, आर्थिक, राजनीतिक, शैक्षणिक विकास का मार्ग प्रशस्त किया। मध्यप्रदेश में उनके सपनों को साकार करने का कार्य मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान कर रहे हैं।


वित्त मंत्री श्री जगदीश देवड़ा ने कहा कि बाबा साहेब अंबेडकर ने सबसे पहले शोषित, पीडि़त और समाज में सबसे पीछे खड़े लोगों के बारे में विचार किया। मुख्यमंत्री श्री चौहान सभी वर्गों के कल्याण और विकास के लिए संवेदनशीलता और समर्पण से कार्यरत हैं। मध्यप्रदेश के वर्ष 2022-23 के बजट में अनुसूचित जाति वर्ग के कल्याण के लिए 19 हजार करोड़ रूपए से अधिक का प्रावधान किया गया है।


खजुराहो सांसद श्री वी.डी. शर्मा ने कहा कि देश को आदर्श रूप से स्थापित करने के लक्ष्य और प्रक्रियाओं की स्थापना बाबा साहेब अंबेडकर ने की। पूरे प्रदेश और देश में गरीबी हटाने नहीं अपितु गरीबों का जीवन बदलने का अभियान जारी है। बाबा साहेब के विचारों के अनुरूप मुख्यमंत्री श्री चौहान के नेतृत्व में गरीब कल्याण की योजनाओं का प्रदेश में क्रियान्वयन जारी है।


चिकित्सा शिक्षा, भोपाल गैस त्रासदी राहत एवं पुनर्वास मंत्री श्री विश्वास सारंग, जन-प्रतिनिधि, अधिकारी सहित बड़ी संख्या में नागरिक उपस्थित थे। कार्यक्रम का सीधा प्रसारण, दूरदर्शन एवं क्षेत्रीय चैनलों के साथ फेसबुक, यू-ट्यूब, वेबकास्ट आदि पर भी किया गया।



0 views0 comments