• dainik kshitij kiran

कृषि अर्थव्यवस्था में अभूतपूर्व सुधार

0-सबसे ज्यादा लाभ लघु और सीमान्त किसानों को


डॉ. सुशील त्रिवेदी

भारत की अर्थव्यवस्था में कृषि का योगदान 16.5 प्रतिशत है । भारत की 132 करोड़ आबादी में 70 करोड़ आबादी अपनी आजीविका के लिए प्रत्यक्ष-अप्रत्यक्ष रूप से कृषि पर आश्रित हैं । देश में कुल किसानों में से 82 प्रतिशत लघु और सीमान्त किसान हैं । इन लघु किसानों के पास 2 हेक्टेयर से भी कम और सीमान्त किसानों के पास 1 हेक्टेयर से भी कम जमीन हैं । इस तरह भारत के अधिकांश किसान अपने खेतों के छोटे-छोटे आकार, बाजार की अनिश्चितता, बिचौलियों के कुचक्र और राज्यों के विपणन संबंधी कानूनों के मकडज़ाल के कारण गरीबी से उबर नहीं पाते हैं । यह उल्लेखनीय है कि भारत में प्रति व्यक्ति आय रूपये 1,35,048 है जबकि बेहद आर्थिक पिछड़ेपन को दर्शाते हुए भारत के किसान की औसत वार्षिक आय रूपये 77,976 है । मोदी सरकार ने किसानों की औसत आय को वर्ष 2022 तक दोगुना करने का अपना लक्ष्य बनाया है । इसी क्रम में भारत सरकार ने हाल ही में ऐतिहासिक महत्व के तीन अध्यादेश जारी किए हैं जिससे किसानों को उनकी उपज का अधिकतम लाभ मिल सकेगा और भारत की कृषि अर्थ व्यवस्था का रूपान्तरण होगा ।

भारत सरकार द्वारा जारी पहला अध्यादेश आवश्यक वस्तु अधिनियम, 1955 में संशोधन करने से संबधित है । इस अध्यादेश को जारी कर खाद्य उत्पादों पर लागू संग्रहण की मौजूदा बाध्यताओं को हटाया गया है । इस संशोधन के बाद खाद्यान्न, दलहन, तिलहन, खाद्य तेलों, प्याज और आलू जैसी वस्तुओं को आवश्यक वस्तु अधिनियम, 1955 में शामिल वस्तुओं की सूची से बाहर कर दिया गया है । अब व्यापारी आवश्यकतानुसार इन वस्तुओं का संग्रहण कर सकेगा। अब यह संभावना है कि कृषि के क्षेत्र में निजी निवेश बढ़ जाएगा और विदेशी निवेष भी हो सकेगा । इससे नए, बड़े और बेहतर तकनीक वाले कोल्ड स्टोरेज का निर्माण हो सकेगां और खाद्य प्रदाय की श्रृंखला का आधुनिकीकरण होगा।

यह उल्लेखनीय है कि कृषि उत्पादों की जमाखोरी रोकने के लिए आवश्यक वस्तु अधिनियम, 1955 तब बना था जब कृषि उत्पाद की कमी थी। हरित क्रांति के बाद से भारत में कृषि उत्पादन बढ़ा है किन्तु इस अधिनियम के कड़े प्रावधानों के कारण कृषि उत्पाद का उचित भंडारण नहीं किया जा सकता । इसी वजह से जल्दी खराब होने वाले कृषि उत्पाद की बर्बादी होती है और तत्काल उत्पाद बेचने को मजबूर किसानों को कम मूल्य मिलता है । बहरहाल, इस नए अध्यादेश के जारी हो जाने के बाद इस स्थिति में किसानो के पक्ष में बड़ा परिवर्तन आएगा ।

दूसरा अध्यादेश ‘‘कृषक (सशक्तिकरण और संरक्षण) मूल्य आश्वासन और कृशि सेवाओं पर करार अध्यादेश‘‘ है । इसके द्वारा कॉन्ट्रैक्ट फार्मिंग को कानूनी मान्यता दी गई है । अब भूमि स्वामी अपनी जमीन को किसी को भी पट्टे पर अथवा किसी कंपनी को अनुबंध के आधार पर ठेकाधारित खेती करने के लिए स्वतंत्र होंगे । यह विदित है कि देश में अधिकांश किसान लघु और सीमान्त किसान की श्रेणी में आते हैं जिनके लिए खेती लाभदायी नहीं हो पाती । ऐसे किसानों को न तो उन्हें उन्नत कृषि प्रणाली के प्रयोग की सुविधा मिलती है, न सिंचाई और न ऋण संबंधी सुविधाओं का अधिकतम लाभ । अब इस अध्यादेश के जारी होने से सबसे अधिक लाभ लघु और सीमान्त किसानों को होगा जो अपनी जमीन से कॉन्ट्रैक्ट के जरिए बेहतर लाभ ले सकेंगे ।

तीसरा अध्यादेश है कृषि उत्पाद व्यापार और वाणिज्य (संवर्धन और सुविधा) अध्यादेश । इसके द्वारा किसान अपनी उपज कहीं भी बेचने के लिए स्वतंत्र हो गए हैं । इस अध्यादेश से न केवल खेती करने वाले बल्कि पशुपालक, मुर्गीपालक और ऐसे ही अन्य उत्पाद करने वाले किसान लाभान्वित होंगे । उनके ऊपर अब राज्यों के उलझे हुए मंडी कानून लागू नहीं होंगे । अब उन्हें अपने उत्पाद का संग्रह करने और राज्य के भीतर अन्य जिलों में और अपने राज्य से बाहर दूसरे स्थानों में अपने उत्पाद बेचने की सुविधा मिल गई है । इससे बाजार में बिचौलियों की भूमिका सीमित हो जाएगी और किसान को उनकी उपज का बेहतर मूल्य प्राप्त करने में सहूलियत होगी । यह गौर करने की बात है किसान को उसके उत्पाद का पूरा लाभ मिले इसके लिए राज्य सरकारो ने कृषि विपणन समिति कानून बना दिए हैं जिनके अन्तर्गत देश भर में कोई 7500 समितियां कार्यरत हैं । इसी कारण किसान अपने निकट की ही ऐसी समितियों में ही अपना उत्पाद बेचने को बाध्य हैं, भले ही अपने राज्य के दूसरे जिलों में ज्यादा मूल्य हो या उससे भी अधिक मूल्य दूसरे राज्य में हो । लेकिन नया अध्यादेश जारी होने के बाद स्थिति बदल गई है।

इन सुधारों से सबसे ज्यादा लाभ देश के लघु और सीमान्त किसानों को होगा जिनके लिए खेती अभी लाभदायी उद्यम नहीं है । ये किसान अपने श्रम और लागत का सही मूल्य भी नहीं पाते हैं । कॉन्ट्रैक्ट फार्मिंग से किसानों को अपनी जमीन पर होने वाली फसल की अच्छी कीमत मिलने का भरोसा होगा और वह खेती पर अपना विश्वास बनाए रखेगा । इन सुधारों से कृषि उपज के भंडारण की बेहतर व्यवस्था होगी । कृषि उत्पाद की ऑन ट्रेडिंग प्लेटफार्म के लिए राष्ट्रीय कृषि बाजार अर्थात ईनेम की व्यवस्था से किसानों को बेहतर कीमत और सुचारू विपणन की सुविधा मिलेगी । वास्तव में अब डिजीटल व्यवस्था का भी लाभ किसानों को बड़े पैमाने पर मिलेगा । समग्रत: इन उपायों का ग्रामीण भारत पर सकारात्मक प्रभाव पड़ेगा और मेहनतकश किसानों को उनकी मेहनत का बेहतर प्रतिफल मिल सकेगा । इससे कृषि अर्थव्यवस्था का रूपान्तरण होगा और ‘‘एक भारत, एक कृषि बाजार‘‘ का निर्माण होगा। ‘‘आत्मनिर्भर भारत‘‘ के निर्माण की दिशा में यह एक बड़ा कदम है।

(लेखक/स्तम्भकार एवं पूर्व भारतीय प्रशासनिक सेवा अधिकारी, रायपुर हैं)

0 views0 comments

Recent Posts

See All

सोने की लंका लुटी पांच सितारा उपचार में

आलोक पुराणिक कबीरदास सिर्फ संत ही नहीं थे, अर्थशास्त्री थे। उनका दोहा है—सब पैसे के भाई, दिल का साथी नहीं कोई, खाने पैसे को पैसा हो रे, तो जोरू बंदगी करे, एक दिन खाना नहीं मिले, फिरकर जवाब करे। सब पैस

पश्चिम बंगाल में चुनावी कटुता भुलाने का समय

कृष्णमोहन झा/ पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी और केंद्र की मोदी सरकार के बीच टकराव का जो सिलसिला ममता बनर्जी के दूसरे कार्यकाल में प्रारंभ हुआ था वह उनके तीसरे कार्यकाल की शुरुआत में ही पहले स

उत्पादकता बढ़ाने में सहायक हो ऋ ण

भरत झुनझुनवाला वर्तमान कोरोना के संकट को पार करने के लिए भारत सरकार ने भारी मात्रा में ऋण लेने की नीति अपनाई है। ऋण के उपयोग दो प्रकार से होते हैं। यदि ऋण लेकर निवेश किया जाए तो उस निवेश से अतिरिक्त आ