• dainik kshitij kiran

कोरोना की रोकथाम में चीनी औषधि की रही कारगर भूमिका

बीजिंग। कोविड-19 महामारी की रोकथाम और मरीजों के उपचार में चीनी औषधि ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। आंकड़ों के अनुसार 92 प्रतिशत मरीजों के इलाज में चीनी औषधि का इस्तेमाल किया गया। हूपेई प्रांत के पुष्ट मामलों के उपचार में चीनी औषधि का उपयोग और प्रभावी दर 90 फीसदी से अधिक है। 27 जनवरी को चीनी इंजीनियरिंग अकादमी के सदस्य और थ्येनचिन चीनी औषधि विश्वविद्यालय के प्रमुख चांग पोली चिकित्सा दल के साथ वुहान पहुंचे और चीनी औषधि से मरीजों को बचाने लगे। कोई विशेष पश्चिमी दवा और टीका न होने की स्थिति में चांग पोली ने संदिग्ध मामलों को चीनी औषधि देने का सुझाव दिया और महामारी की रोकथाम में चीनी औषधि की हिस्सेदारी को बढ़ावा दिया।

अस्पतालों में रहने वाले 90 प्रतिशत से अधिक मरीजों को चीनी औषधि दी गई। रोगियों की विभिन्न हालत के अनुसार उपचार की अलग अलग योजना बनाई गई। हल्के रोगियों को समय पर चीनी औषधि दी गई, गंभीर रोगियों के इलाज में चीनी और पश्चिमी चिकित्सा का साथ में इस्तेमाल किया गया, घनिष्ठ रूप से संपर्क करने वाले व्यक्तियों ने चीनी दवा लेकर प्रतिरोधक शक्ति बढ़ाई, जबकि स्वास्थ्य-लाभ की अवधि में चीनी दवा, एक्यूपंक्च र और मालिश आदि तरीके से मरीज के स्वास्थ्य को बढ़ावा गया के उपचार में चीनी दवा की कारगर भूमिका साबित हुई है। परंपरागत चीनी चिकित्सा में मरीज की अलग अवस्था और अलग शारीरिक स्थिति के अनुसार अलग अलग नुस्खा तैयार होता है। महामारी की रोकथाम में चीनी औषधि का विशेष सिद्धांत स्थापित हो चुकी है। सार्स और ए1एन1 फ्लू जैसी संक्रामक बीमारियों की रोकथाम में चीनी औषधि ने अपनी भूमिका निभाई है।

००


1 view0 comments

Recent Posts

See All

डोनाल्ड ट्रंप ने हमेशा के लिए अपने सोशल मीडिया अकाउंट्स बंद किए

वॉशिंगटन, । अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने सोशल मीडिया की दिग्गज कंपनियों के फेसबुक और ट्विटर द्वारा प्रतिबंधित किए जाने के बाद हमेशा के लिए अपने सोशल मीडिया अकाउंट को बंद कर दिया है। उ

डब्ल्यूएचओ ने कहा, भारत में मिला कप्पा नहीं, सिर्फ डेल्टा वैरिएंट ही खतरनाक

संयुक्त राष्ट्र, । कोविड-19 के बी.1.617 स्ट्रेन का डेल्टा यानी बी.1.617.2 वैरिएंट ही दुनिया के लिए चिंता का विषय है। यह तथ्य विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के अध्ययन में सामने आया है। ज्ञातव्य है

छिन सकती है नेतन्याहू की कुर्सी, इजराइल में सरकार बनाने के लिये विरोधी विचारधारा के दल एकजुट हुए

यरुशलम । करीब दो हफ्ते पहले जब इजराइल देश में सबसे बुरे सांप्रदायिक तनाव से जूझ रहा था, गाजा से रॉकेटों की बौछार हो रही थी, तब कौन सोच सकता था कि वामपंथी, दक्षिणपंथी और मध्यमार्गी जैसी विरोधी विचारधार