कोरोना की रोकथाम में चीनी औषधि की रही कारगर भूमिका

बीजिंग। कोविड-19 महामारी की रोकथाम और मरीजों के उपचार में चीनी औषधि ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। आंकड़ों के अनुसार 92 प्रतिशत मरीजों के इलाज में चीनी औषधि का इस्तेमाल किया गया। हूपेई प्रांत के पुष्ट मामलों के उपचार में चीनी औषधि का उपयोग और प्रभावी दर 90 फीसदी से अधिक है। 27 जनवरी को चीनी इंजीनियरिंग अकादमी के सदस्य और थ्येनचिन चीनी औषधि विश्वविद्यालय के प्रमुख चांग पोली चिकित्सा दल के साथ वुहान पहुंचे और चीनी औषधि से मरीजों को बचाने लगे। कोई विशेष पश्चिमी दवा और टीका न होने की स्थिति में चांग पोली ने संदिग्ध मामलों को चीनी औषधि देने का सुझाव दिया और महामारी की रोकथाम में चीनी औषधि की हिस्सेदारी को बढ़ावा दिया।

अस्पतालों में रहने वाले 90 प्रतिशत से अधिक मरीजों को चीनी औषधि दी गई। रोगियों की विभिन्न हालत के अनुसार उपचार की अलग अलग योजना बनाई गई। हल्के रोगियों को समय पर चीनी औषधि दी गई, गंभीर रोगियों के इलाज में चीनी और पश्चिमी चिकित्सा का साथ में इस्तेमाल किया गया, घनिष्ठ रूप से संपर्क करने वाले व्यक्तियों ने चीनी दवा लेकर प्रतिरोधक शक्ति बढ़ाई, जबकि स्वास्थ्य-लाभ की अवधि में चीनी दवा, एक्यूपंक्च र और मालिश आदि तरीके से मरीज के स्वास्थ्य को बढ़ावा गया के उपचार में चीनी दवा की कारगर भूमिका साबित हुई है। परंपरागत चीनी चिकित्सा में मरीज की अलग अवस्था और अलग शारीरिक स्थिति के अनुसार अलग अलग नुस्खा तैयार होता है। महामारी की रोकथाम में चीनी औषधि का विशेष सिद्धांत स्थापित हो चुकी है। सार्स और ए1एन1 फ्लू जैसी संक्रामक बीमारियों की रोकथाम में चीनी औषधि ने अपनी भूमिका निभाई है।

००


1 view0 comments