क्रिकेट को काफी बेहतर तरीके से समझते थे कैप्टन राहुल द्रविड़ : रैना


नईदिल्ली,। यदि सफल भारतीय कप्तानों की बात की जाए तो जाहिर तौर पर इसमें कपिल देव, सौरभ गांगुली, महेंद्र सिंह धोनी और कुछ हद तक मौजूदा कैप्टन विराट कोहली के इर्द-गिर्द ही चर्चा होगी। इस लिस्ट में शायद ही दिग्गज बल्लेबाज राहुल द्रविड़ का नाम आए लेकिन साल 2005 और 2007 के बीच उनकी कप्तानी में खेलने वाले खिलाडिय़ों से पूछें, तो जवाब अलग मिल सकता है। भारतीय क्रिकेटर सुरेश रैना भी उन लोगों में से एक हैं, जो द्रविड़ को कप्तान के रूप में बहुत अधिक मानते हैं। 

रैना ने अपने करियर के शुरुआती दिनों में द्रविड़ के नेतृत्व में काफी क्रिकेट खेला। उन्होंने द्रविड़ की कप्तानी और खेल को समझने के कौशल को समझाने के लिए 2006 में भारत और चिर प्रतिद्वंद्वी पाकिस्तान के बीच वनडे को याद किया।

मुल्तान में सीरीज के चौथे वनडे में पाकिस्तान का स्कोर जब बिना कोई विकेट खोए 14 रन था, तब इरफान पठान ने अपना चौथा और भारत का सातवां ओवर डाला। सलमान बट ने सिंगल लिया और स्ट्राइक वापस पाकिस्तान के विकेटकीपर बल्लेबाज कामरान अकमल को मिली।

अकमल को तब एक अच्छे बल्लेबाज के रूप में जाना जाता था, जो पाकिस्तान को तेज शुरुआत देते थे। पहले छह ओवरों को देखते हुए द्रविड़ जानते थे कि उस समय अकमल हवाई शॉट लगाएंगे। रैना ने आगे कहा, मुझे याद है कि इरफान भाई (पठान) गेंदबाजी कर रहे थे और कामरान अकमल स्ट्राइक पर थे। तब नियम था कि 15 यार्ड्स के अंदर ही कैचिंग फील्डर रखने होंगे। राहुल भाई (द्रविड़) ने मुझसे पॉइंट पर खड़े रहने को कहा। उन्होंने कहा कि आगे की तरफ खड़े हो और कैच के लिए तैयार रहो। 

उन्होंने बताया कि इरफान पठान ने अगली ही गेंद स्टंप्स के बाहर की तरफ फेंकी और रैना पहले से ही तैयार थे। अकमल ने शॉट लगाने की कोशिश की और सीधे रैना के हाथों में गेंद गई। 

रैना ने कहा कि द्रविड़ खेल को बेहतर तौर पर जानते थे।

1 view0 comments