किताबों ने बदली पिया बाजपेई की जिंदगी


अभिनेत्री पिया बाजपेई को आजकल किताबों का शौक चढ़ा हुआ है। इससे पहले वह किताब पढऩे की इतनी आदी कभी नहीं रही हैं। वह कहती हैं, 100 बुक्स चैलेंज मेरे लिए जिंदगी को बदल देने वाला एक अनुभव रहा है। मुझे पहले किताबों का बिल्कुल भी शौक नहीं रहा है। मैं किताबों के साथ पहले पांच मिनट तक का वक्त नहीं गुजार पाती थी। मुझे वे लोग काफी पसंद आते थे, जो किताबें पढ़ते हैं और मैं भी पढऩा शुरू करना चाहती थी, क्योंकि हमारी इंडस्ट्री में सभी बुद्धिजीवियों का कहना है कि कलाकारों में पढऩे की आदत होनी चाहिए और यह मेरी कमजोरी थी और मैं एक ऐसी इंसान हूं, जो एक बार अगर किसी चीज को ठान लेती हूं, तो उसे कर के रहती हूं।

उनके लिए 100 किताबों को पढक़र खत्म करने की चुनौती एक प्रतिबद्धता रही है।

वह आगे कहती हैं, किताबों ने मुझे पूरी तरह से बदल दिया है। मेरे दृष्टिकोण में संपूर्ण बदलाव आया है। हां, शुरुआत में मैं काफी धीमे-धीमे पढ़ती थी, लेकिन लगातार पढऩे के क्रम को बनाए रखा। इसने वाकई लॉकडाउन में मेरी जिंदगी संवार दी।

पिया वाजपयी का जन्म 6जनवरी 1989 हुआ था। पिया वाजपयी ने अपनी शुरुआती पढाई दिल्ली से पूरी की है। पिया वाजपयी ने अपने करियर की शुरुआत बतौर मॉडल की थी, उन्होंने अपने मॉडलिंग करियर में कई बड़े कलाकारों के साथ विज्ञापन में काम किया उन्होंने तमिल सिनेमा में कदम एक कॉमेडी फिल्म पोई सोल्ला पूर्म से कदम रखा था। वह कई तमिल फिल्मों में नजर आ चुकी हैं।


0 views0 comments