• dainik kshitij kiran

कांग्रेस का हाथ थामते ही आप पर बरसे खैहरा, केजरीवाल को बताया तानाशाह

नई दिल्ली, । पंजाब के सियासी गलियारों में बीते कई दिनों से चल रही अटकलों पर आखिरकार विराम लगाते हुए आम आदमी पार्टी (आप) के बागी नेता सुखपाल सिंह खैहरा ने गुरुवार को अपने दो विधायकों के साथ कांग्रेस का हाथ थाम लिया। मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और राहुल गांधी की मौजूदगी में तीनों नेताओं को कांग्रेस में शामिल करवाया। कांग्रेस में शामिल होते ही खैहरा ने आप पर जमकर सियासी निशाने साधे। विधायक पीरमल सिंह और जगदेव कमालू के साथ कांग्रेस में शामिल होने के बाद मीडिया से मुखातिब होते दिल्ली के मुख्यमंत्री और आम आदमी पार्टी के राष्ट्रीय संयोजक अरविंद केजरीवाल को तानाशाह कहते हुए खैहरा ने कहा, आप में शामिल होना मेरी सबसे बड़ी गलती थी। केजरीवाल कभी नहीं चाहते थे कि मुझे विपक्ष का नेता कहा जाए। उन्होंने कहा कि पंजाब में आम आदमी पार्टी का अंत तभी हो गया था जब मानहानि मामले में केजरीवाल ने अकाली नेता बिक्रम सिंह मजीठिया से माफी मांग ली थी। खैहरा ने कहा, "मैंने विपक्ष के नेता के रूप में अपनी भूमिका पूरी ईमानदारी के साथ निभाई है।" इसलिए मैं अभी भी एनडीपीएस केस का सामना कर रहा हूं।

कांग्रेस की तारीफों के बांधे पुल

खैहरा ने कांग्रेस पार्टी की तारीफ करते हुए कहा, 'मैं हमेशा मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह और आलाकमान का आभारी रहूंगा।' उन्होंने कहा कि कांग्रेस में शामिल होने का फैसला लेने के पीछे सबसे बड़ी वजह यह है कि पंजाब कांग्रेस के फैसले पंजाब में ही लिए जाते हैं, जबकि पंजाब आप से जुड़े सभी फैसले केजरीवाल की अदालत में होते हैं। उन्होंने शराब के मुद्दे पर आप सांसद भगवंत मान पर भी जमकर हमला बोला।

विवादों में रहे सुखपाल खैहरा का सियासी सफर

पंजाब के पूर्व स्वर्गीय शिक्षा मंत्री सुखजिदर सिंह खैहरा के इकलोते बेटे सुखपाल सिंह खैहरा को सियासत ही नहीं, विवाद भी विरासत में मिला है। उनके स्वर्गीय पिता पूर्व मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल से बगावत कर मंत्री पद छोड़ कांग्रेस में शामिल हो गए। कांग्रेस उन्हें ज्यादा समय तक रास नही आई, लेकिन शिरोमणि अकाली दल का दामन छोडऩे के बाद वे फिर कभी भी राजनीति में वह रुतबा हासिल नहीं कर सके। पिता की तरह सुखपाल सिंह खैहरा ने भी अपना सियासी सफर कांग्रेस से शुरू किया था, लेकिन उनका यह सफर काफी उथल-पुथल भरा रहा है। 2007 में उन्होंने कपूरथला की भुलत्थ विधानसभा सीट से शिरोमणि अकाली दल की दिग्गज नेता बीबी जागीर कौर को हराकर सभी को हैरान कर दिया था। सुखपाल सिंह खैहरा ने 2015 में कैप्टन अमरिंदर सिंह से मनमुटाव के बाद कांग्रेस से इस्तीफा देकर आम आदमी पार्टी का दामन थाम लिया। पार्टी विरोधी गतिविधियों के कारण 2018 में उन्हें बर्खास्त कर दिया गया। 25 अप्रैल 2019 को सुखपाल सिंह खैहरा ने विधानसभा की सदस्यता से इस्तीफा दे दिया, लेकिन 22 अक्टूबर 2019 को उन्होंने अपना इस्तीफा यह कह कर वापस लेने का ऐलान कर दिया कि कि आम आदमी पार्टी ने उन्हें असंवैधानिक तरीके से पार्टी से निकाला था। इसके बाद खैहरा ने साल 2019 में ही पंजाब एकता पार्टी के नाम से अपनी पार्टी का गठन किया। लेकिन पार्टी को उम्मीद मुताबिक कामयाबी ना मिलते देख खैहरा ने एक बार फिर दल बदल कर कांग्रेस का हाथ थाम लिया है।

1 view0 comments

Recent Posts

See All

कोरोना की तीसरी लहर से निपटने की शिवराज सरकार की तैयारी केवल कागजी दावा : कमलनाथ

भोपाल । मध्य प्रदेश के पूर्व सीएम और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने प्रदेश सरकार पर निशाना साधा है। उन्होंने कहा है कि दूसरी लहर की भयावहता को देखने के बाद भी कोरोना की तीसरी लहर को लेकर प्रदेश सरक

12 वर्ष से कम उम्र के बच्चों के माता-पिता और विदेश जाने वाले विद्यार्थियों को टीकाकरण में प्राथमिकत

होशंगाबाद। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि हमने कोरोना की दूसरी लहर पर नियंत्रण प्राप्त कर लिया है। तीसरी लहर की आशंका जताई जा रही है। तीसरी लहर का मुकाबला करने की तैयारी प्रारंभ कर दी गई ह

नड्डा और शाह से मिले खट्टर, उपचुनाव व किसान आंदोलन समेत कई मुद्दों पर हुई चर्चा

नई दिल्ली/चंडीगढ़, । हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) अध्यक्ष जेपी नड्डा और केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से मुलाकात कर राज्य में होने वाले विधानसभा उपचुनाव, किसान