• dainik kshitij kiran

कांग्रेस के लिए सिंधिया का सबक

मध्यप्रदेश में कमलनाथ सरकार के खिलाफ ज्योतिरादित्य सिंधिया की बगावत से कांग्रेस बिखर गई है। दरअसल यह इस टूट का एक प्रतीक भर है, दरार तो समूची कांग्रेस की भीतरी परतों में स्पष्ट रूप से महसूस की जा रही है। भारत की सबसे पुरानी राजनीतिक पार्टी के भीतर नैसर्गिक रूप से नेतृत्व का हस्तांतरण ना होने से कई समस्याएं पैदा हो गई हैं। कमोबेश कांग्रेस में ऐसी ही स्थिति हर उस राज्य और इकाई में दिखाई दे रही है, जहां युवा बनाम वरिष्ठ के बीच नेतृत्व का संघर्ष जारी है।

ज्योतिरादित्य सिंधिया कांग्रेस में इसलिए नाराज थे कि कमलनाथ को मुख्यमंत्री बना दिया गया। वह खुद मुख्यमंत्री बनना चाहते थे। कमलनाथ ने मुख्यमंत्री बनते ही इस बात का ख्याल रखा कि सिंधिया समर्थकों को सत्ता का लाभ न मिलने पाए। कांग्रेस नेतृत्व चाहता, तो समय रहते स्थिति को नियंत्रित कर सकता था। राहुल गांधी के कांग्रेस अध्यक्ष पद छोडऩे के बाद स्थिति और विषम हो गई। नाराजगी बढ़ती गई, दरार गहराती गई और सत्ता के मुहाने पर बैठी भाजपा ने इसका लाभ उठा लिया।

राजनीति में ऐसा होता रहा है, परंतु सवाल यह है कि क्या सिंधिया भाजपा में जाकर मध्यप्रेदश के मुख्यमंत्री बन पाएंगे? दूसरा महत्वपूर्ण सवाल यह है कि जिस तरह सिंधिया कांग्रेस में समूचे मध्यप्रदेश के सर्वमान्य नेता थे, क्या भाजपा में उन्हें यह सम्मान मिल पाएगा? सवाल यह भी है कि ग्वालियर-चंबल संभाग में पहले से मौजूद भाजपा नेताओं की एक मजबूत पंक्ति उन्हें अपना नेता स्वीकार कर पाएगी?

खासकर तब जब इन नेताओं की राजनीति का आधार वर्षों से सिंधिया विरोध ही रहा है। वैसे भी, भाजपा में सिंधिया घराने को उनके कद के मुताबिक सत्ता में हिस्सेदारी कभी नहीं मिली। बहरहाल, मध्यप्रदेश कांग्रेस में सब कुछ ठीकठाक नहीं चल रहा, इस बात का अंदाजा कांग्रेस में सभी को था। संख्या बल भी इतना मजबूत नहीं था कि निश्चिंत होकर बैठा जा सके। ऑपरेशन लोटस की संभावनाएं पल प्रतिपल बनीं हुईं थीं। बावजूद उसके कांग्रेस ने सब कुछ कमलनाथ के भरोसे क्यों छोड़ दिया?

यह सच है कि कांग्रेस का वैचारिक धरातल अब पहले जैसा मजबूत नहीं रहा है। सत्ता से बेदखल होने के बाद इसमें और गिरावट आई है। ऐसे में युवाओं की महत्वकांक्षा को संभाले रखना कांग्रेस के भविष्य के लिए बहुत जरूरी है क्योंकि युवा ही कांग्रेस के लिए अच्छे दिन ला सकते हैं। बुजुर्ग कांग्रेसियों का जमघट नए और युवा कांग्रेसियों स्वीकारने को तैयार नहीं है, वह कांग्रेस के लिए शुभ संकेत नहीं है। राजस्थान में भी सचिन पायलट और अशोक गहलोत के बीच हालत ठीक वैसी ही है जैसी मध्य प्रदेश में सिंधिया और कमलनाथ के बीच थी। लिहाजा युवा नेतृत्व किस दिशा में सोच रहा है, कांग्रेस के वरिष्ठ नेतृत्व को जल्द ही हवा के इस रुख को भांपना होगा।

0 views0 comments

Recent Posts

See All

सोने की लंका लुटी पांच सितारा उपचार में

आलोक पुराणिक कबीरदास सिर्फ संत ही नहीं थे, अर्थशास्त्री थे। उनका दोहा है—सब पैसे के भाई, दिल का साथी नहीं कोई, खाने पैसे को पैसा हो रे, तो जोरू बंदगी करे, एक दिन खाना नहीं मिले, फिरकर जवाब करे। सब पैस

पश्चिम बंगाल में चुनावी कटुता भुलाने का समय

कृष्णमोहन झा/ पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी और केंद्र की मोदी सरकार के बीच टकराव का जो सिलसिला ममता बनर्जी के दूसरे कार्यकाल में प्रारंभ हुआ था वह उनके तीसरे कार्यकाल की शुरुआत में ही पहले स

उत्पादकता बढ़ाने में सहायक हो ऋ ण

भरत झुनझुनवाला वर्तमान कोरोना के संकट को पार करने के लिए भारत सरकार ने भारी मात्रा में ऋण लेने की नीति अपनाई है। ऋण के उपयोग दो प्रकार से होते हैं। यदि ऋण लेकर निवेश किया जाए तो उस निवेश से अतिरिक्त आ