कोरिया ओपन में भारतीय चुनौती समाप्त, सेमीफाइनल में हारे पीवी सिंधू और श्रीकांत

सुनचियोन ,(आरएनएस)। भारत की पीवी सिंधू और किदांबी श्रीकांत को सीधे गेम में हार का सामना करना पड़ा , कोरिया ओपन सुपर 500 बैडमिंटन टूर्नामेंट के सेमीफाइनल में उनका अभियान खत्म हो गया। स्विस ओपन का खिताब जीतकर यहां पहुंची तीसरी वरीय भारतीय सिंधू को कड़ी चुनौती पेश करने के बावजूद दुनिया की चौथे नंबर की कोरियाई खिलाड़ी आन सियोंग के खिलाफ 48 मिनट में 14-21 17-21 से हार का सामना करना पड़ा। सियोंग के खिलाफ सिंधू की यह लगातार चौथी शिकस्त है। विश्व चैंपियनशिप के रजत पदक विजेता श्रीकांत एक बार फिर सेमीफाइनल से आगे बढऩे में नाकाम रहे। उन्हें एशियाई खेलों के स्वर्ण पदक विजेता जोनाथन क्रिस्टी ने 50 मिनट चले पुरुष एकल मुकाबले में 19-21 16-21 से हराया। बीस साल की सियोंग के खिलाफ सिंधू मुकाबले के दौरान अधिकतर समय पिछड़ी ही रही। दूसरी वरीय कोरियाई खिलाड़ी ने शानदार शुरुआत करते हुए 6-1 की बढ़त बनाई। सिंधू ने दो ताकतवर रिटर्न के साथ स्कोर 4-7 किया लेकिन सियोंग ने दो सटीक रिटर्न, शरीर पर एक शॉट और बेसलाइन के करीब एक रिटर्न के साथ ब्रेक तक 11-6 की बढ़त बना ली। सिंधू ने मुकाबले में तेजी लाने का प्रयास किया लेकिन सियोंग अपने शॉट में विविधता से हमेशा एक कदम आगे ही रही। भारतीय खिलाड़ी ने स्मैश के साथ कुछ अंक जुटाए लेकिन सियोंग पर दबाव नहीं बना सकीं। सियोंग ने इसके बाद आठ गेम प्वाइंट हासिल किए जिसमें से सिंधू ने दो बचाए लेकिन कोरियाई खिलाड़ी ने ताकतवर स्मैश के साथ गेम जीत लिया। दूसरे गेम में सिंधू ने अच्छी शुरुआत करते हुए 3-0 की बढ़त बनाई लेकिन सियोंग ने लगातार पांच अंक के साथ स्कोर 5-3 कर दिया। दोनों खिलाड़ी 9-9 के स्कोर पर बराबर थी लेकिन सिंधू के नेट पर शॉट मारने से ब्रेक तक सियोंग ने 11-9 की बढ़त बना ली। कड़े मुकाबले के बीच सियोंग पहले 14-12 और फिर 16-14 से आगे थी। सिंधू ने इसके बाद गलतियां करके कोरियाई खिलाड़ी को 18-14 की बढ़त बनाने का मौका दे दिया।


सिंधू ने लगातार तीन अंक के साथ स्कोर 17-18 किया लेकिन सियोंग ने शानदार रिटर्न के साथ अंक हासिल किया और फिर भारतीय खिलाड़ी के नेट पर शॉट मारने से तीन मैच प्वाइंट हासिल किए। सियोंग ने शानदार स्मैश के साथ मैच अपने नाम किया।

पिछले महीने भी श्रीकांत को क्रिस्टी के खिलाफ स्विस ओपन के सेमीफाइनल में हार का सामना करना पड़ा था। शनिवार को एक बार फिर इंडोनेशियाई खिलाड़ी मैच को अपने नियंत्रण में लेने में सफल रहा। श्रीकांत ने पहले गेम में अच्छी शुरुआत करते हुए 9-7 की बढ़त बनाई और वह ब्रेक के समय 11-8 से आगे थे। क्रिस्टी ने हालांकि वापसी करते हुए 13-13 के स्कोर पर बराबरी हासिल कर ली। इसके बाद स्कोर 17-17 हुआ। क्रिस्टी ने स्मैश और शानदार रिटर्न के साथ दो गेम प्वाइंट हासिल किए।

श्रीकांत ने एक प्वाइंट बचाया लेकिन इसके बाद शॉट बाहर मारकर गेम इंडोनेशिया के खिलाड़ी की झोली में डाल दिया। दूसरे गेम में क्रिस्टी ने बेहतर शुरुआत की और 3-0 से बढ़त बना ली। श्रीकांत की गलतियों का फायदा उठाकर वह ब्रेक तक 11-8 से आगे थे। श्रीकांत ने वापसी करते हुए करते हुए स्कोर 14-13 किया लेकिन क्रिस्टी ने लगातार छह अंक के साथ 19-14 की बढ़त बना ली। क्रिस्टी ने इसके बाद पांच मैच प्वाइंट हासिल किए। श्रीकांत ने एक मैच प्वाइंट बचाया लेकिन क्रिस्टी ने शानदार रिटर्न के साथ लगातार दूसरी बार बीडब्ल्यूएफ विश्व टूर प्रतियोगिता के फाइनल में जगह बनाई।


0 views0 comments