किरर घाट के धसकने से चार इंच दबी सड़क, अमरकंटक का आवागमन बंद


अनूपपुर,(आरएनएस)। लगातार दो दिन रात हुई बारिश से जिला मुख्यालय से पवित्र नगरी अमरकंटक और तहसील मुख्यालय पुष्पराजगड को जोडने वाली स्टेट हाईवे मार्ग किरर घाट में बीच में दरार आ गई और वहां बनी रिटेलिंगवाल भी क्षतिग्रस्त हो गई। घाट में भूस्खलन के कारण मिट्टी का मलबा सडक में आकर गिर गया, जिससे सोमवार को किरर घाट रास्ता आवागमन के लिए जिला प्रशासन ने बंद करा दिया है।

मंगलवार को घाट के दोनों छोर के रास्तों पर बड़े-बड़े पत्थर रख मार्ग को बंद कर दोनो ओर पुलिस व कोटवारों को तैनात करा दिया गया है ताकि कोई भी राहगीर घाट की तरफ ना जा सके। साथ ही एमपीआरडीसी विभाग ने स?क की पिंचिंग का कार्य शुरू करा दिया है और क्षतिग्रस्त रिटेलिंगवाल के मलबा को जेसीबी मशीन से घाटी में गिरवा दिया है। बताया गया भूस्खलन रोकने के लिए जो रिटेलिंगवाल बनाई गई थी जिससे पूरा मलबा स?क पर जा गिरा है इसे भी हटाने का काम शुरू किया जाएगा। ज्ञात हो कि पिछले वर्ष 6 जुलाई को इसी तरह किरर घाट में भूस्खलन हुआ था तब चार माह के लिए यह रास्ता बंद कर पहा? से गिरने वाले चट्टान वाले स्थानों पर रिटेलिंगवाल का निर्माण एमपीआरडीसी विभाग ने किया था। एक बार फिर भारी वर्षा के कारण स?क के नीचे की जमीन भुरभुरी हो गई जिससे स?क में दरार प? गई है और यह कई स्थानों पर हुआ है जो कभी भी नीचे धंसक सकती है, इस आशंका के चलते यह मार्ग पूरी तरह से बंद कर दिया गया है। रास्ता बंद हो जाने से जिले के लोग फिर से प्रभावित हो गए हैं। इसी रास्ते से लोग नर्मदा उद्गम पवित्र नगरी अमरकंटक आना-जाना कर रहे हैं, यह रास्ता नजदीक होने के साथ-साथ सफर के लिए सुरक्षित भी है। यह रास्ता दो सप्ताह पहले ही आवागमन के लिए खोल दिया गया था। दोपहिया, चारपाहिया और यात्री बस को आने-जाने की अनुमति दी थी भारी वाहन ट्रकों पर रोक थी। अब एक बार फिर राहगीरों को राजेंद्रग्राम- अमरकंटक जाने के लिए जैतहरी,बैहार घाट का उपयोग करना प? रहा है। एमपीआरडीसी विभाग के इंजीनियर मुकेश बेले ने बताया कि लगातार हो रही वर्षा के कारण राजेंद्रग्राम मार्ग स्थित किरर घाट मार्ग में दरार आने से रिटेलिंग वॉल क्षतिग्रस्त होकर झुक गई थी, जिसे जेसीबी मशीन लगाकर हटा दिया है। सडक के निचले हिस्से से मिट्टी निकल गई हैं। दरार वाले स्थान पर पिचिंग का कार्य शुरू कर दिया गया है। करीब 30 मीटर की सडक क्षतिग्रस्त हुई है अत्यधिक वर्षा के कारण मिट्टी सरकने के कारण सडक करीब चार से पांच इंच नीचे धंस गई है। इसी तरह रिटेलिंगवाल भी अपने स्थान से कुछ जगह दरककर आगे आ गई। विभागीय अधिकारियों को पूरे मामले से अवगत करा दिया गया है और अब नए सिरे से स?क और रिटेलिंगवाल बनाने का प्रस्ताव बनाया जा रहा है। फिर से आवागमन हेतु शुरू करने में समय लगेगा। वहीं बैरीकेटिंग का काम भी चल रहा है।

0 views0 comments