कारम डैम आपदा के उत्कृष्ट प्रबंधन पर राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन संस्थान बनाएगा केस स्टडी

भोपाल (निप्र)। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से आज केन्द्र सरकार के गृह मंत्रालय में कार्यरत राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन संस्थान और केंद्रीय जल आयोग के अधिकारियों के पाँच सदस्यीय दल ने मंत्रालय में भेंट की। दल ने मुख्यमंत्री श्री चौहान के नेतृत्व में कारम डेम आपदा के उत्कृष्ट एवं समेकित प्रबंधन की प्रशंसा की। उन्होंने बताया कि कारम डेम के आपदा प्रबंधन की केस स्टडी देशभर में अध्ययन का विषय बन रही है। केस स्टडी, राष्ट्रीय स्तर के प्रशासनिक, पुलिस, सेना, एनडीआरएफ और सिविल डिफेंस आदि संस्थानों में अध्ययन के लिये उपलब्ध कराई जायेगी।

मुख्यमंत्री श्री चौहान को दल के सदस्यों और अपर मुख्य सचिव गृह डॉ. राजेश राजौरा ने बताया कि उन्होंने 9 से 11 सितंबर तक कारम बांध क्षेत्र, धार और खरगोन जिलों के प्रभावित ग्रामों का भ्रमण किया और आपदा से ग्रामवासियों और पशुधन सहित अन्य संपत्तियों की रक्षा की जानकारी प्राप्त की।

उल्लेखनीय है कि मुख्यमंत्री श्री चौहान ने निर्माणाधीन कारम बांध से पानी के रिसाव की जानकारी मिलते ही अगस्त माह में तीन दिन वल्लभ भवन सिचुएशन रूम में दिन-रात लगातार उपस्थित रह कर राष्ट्रीय स्तर के बांध विशेषज्ञों से चर्चा की और सम्पूर्ण स्थिति पर सतत निगाह रखते हुए समुचित तथा ठोस निर्णय लेकर इस प्रकार के आपदा प्रबंधन को अंजाम दिया, जिससे जन-हानि, पशुधन-हानि और संपत्ति-हानि की स्थिति निर्मित नहीं हो सकी। राज्य सरकार द्वारा तत्परता पूर्वक की गई कार्यवाही को इसलिए प्रशिक्षण संस्थाओं में अध्ययन में शामिल किया जा रहा है।

मुख्यमंत्री श्री चौहान से आज मंत्रालय में भेंट करने वालों में राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन संस्थान के प्रो. डॉ. सूर्य प्रकाश, अजीत बाथम, हरिहर कुमार और अमृतलाल हलधर और केंद्रीय जल आयोग के शरद चंद्र शामिल थे।

0 views0 comments