• dainik kshitij kiran

कष्टों की प्रेरक याद

प्रस्तुति : किरणपाल बुम्बक



जब प्रभु श्रीराम का राज्याभिषेक हुआ तब श्रीराम ने माता कौशल्या को कहा, ‘मां, अब मैं राजा बन गया हूं। अपने से छोटों को मुझे कुछ देना चाहिए। सबसे कहो, मुझसे कुछ मांग लें।’ तब भरत को बुलाया गया तो भरत ने कहा, ‘मेरा आपके चरणों में प्रेम बढ़ता जाए।’ भरत की पत्नी मांडवी को बुलाया गया तो उन्होंने कहा, ‘रघुकुल की पुत्रवधू बनने का सौभाग्य मिला, मुझे और क्या चाहिए ’ लक्ष्मण को बुलाया गया तो वे बोले, ‘बचपन से साथ रहता आया हूं, बाकी जीवन भी इसी प्रकार व्यतीत हो।’ उर्मिला ने मांगा, ‘कैसी भी परिस्थितियां आयें मेरा धैर्य बना रहे।’ शत्रुघ्न ने भरत जी की सेवा मांग ली। शत्रुघ्न की पत्नी श्रुतिकीर्ति ने मांगा, ‘प्रभु, आज स्नान करने से पूर्व जो वस्त्र आपने वनवास में पहने थे, वह आप मुझे दे दें। कल को यदि दुख आये तो हम त्याग और समर्पण के सिद्धांत को न भूल जायें, ये वस्त्र हमें याद दिलाते रहेंगे।’


0 views0 comments

Recent Posts

See All

सोने की लंका लुटी पांच सितारा उपचार में

आलोक पुराणिक कबीरदास सिर्फ संत ही नहीं थे, अर्थशास्त्री थे। उनका दोहा है—सब पैसे के भाई, दिल का साथी नहीं कोई, खाने पैसे को पैसा हो रे, तो जोरू बंदगी करे, एक दिन खाना नहीं मिले, फिरकर जवाब करे। सब पैस

पश्चिम बंगाल में चुनावी कटुता भुलाने का समय

कृष्णमोहन झा/ पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी और केंद्र की मोदी सरकार के बीच टकराव का जो सिलसिला ममता बनर्जी के दूसरे कार्यकाल में प्रारंभ हुआ था वह उनके तीसरे कार्यकाल की शुरुआत में ही पहले स

उत्पादकता बढ़ाने में सहायक हो ऋ ण

भरत झुनझुनवाला वर्तमान कोरोना के संकट को पार करने के लिए भारत सरकार ने भारी मात्रा में ऋण लेने की नीति अपनाई है। ऋण के उपयोग दो प्रकार से होते हैं। यदि ऋण लेकर निवेश किया जाए तो उस निवेश से अतिरिक्त आ