कल से शुरू हो रहा श्राद्धपक्ष,16 दिन तक होगा तर्पण

श्रद्धापूर्वक मनाया जाएगा श्राद्ध पक्ष,घरों में करना होगा तर्पण



होशंगाबाद। अनंत चतुर्दशी के बाद अब कल से श्राद्ध पक्ष शुरू हो रहा है। परिजनों की मृत्यु के बाद श्रद्धापूर्वक मनाए जाने वाला श्राद्ध पक्ष बुधवार से शुरू हो रहा। क्वांर माह की कृष्णपक्ष की प्रतिपदा से लेकर पितृमोक्ष अमावस्या तक 16 दिनों तक पितृपक्ष रहेगा। पं अजय दुबे के अनुसार इस पखवाडे में लोग अपने पूर्वजों को श्रद्धापूर्वक याद करते हुए जल अर्पण करते हैं तथा उनकी मृत्युतिथि अर्थात पुण्यतिथि पर श्राद्ध किया जाता है। पं दुबे ने कहा कि पिता-माता आदि पारिवारिक सदस्यों की मृत्यु के बाद उनकी आत्मा की तृप्ति के लिए श्रद्धापूर्वक किए जाने वाले कर्म को श्राद्ध कहा जाता है। उन्होने कहा कि ‘श्रद्धया इदं श्राद्धम्‌‘ अर्थात जो श्रद्धा से किया जाता वह श्राद्ध है। उन्होने बताया कि इन 15 दिनों में पितरों का श्रद्धापूर्वक अवश्य ही याद कर श्राद्ध किया जाता है। खासकर उनका आशीर्वाद लिया जाता है। तर्पण किसी नदी या जलाशय में किया जाता है। लेकिन इस बार हर जगह कोरोना संक्रमण के कारण इन स्थानों पर रोक है। इसलिए घरों में ही तर्पण कार्य किया जाना चाहिए है। कई लोग पहले भी घरों में ही तर्पण करते हैं।

17 सितंबर तक होंगे तर्पण

श्राद्ध पक्ष 1 सितंबर से 17 सितंबर तक रहेगा। 1 सितंबर को पूर्णिमा तिथि सुबह 09 बजकर 38 मिनट से 2 सितंबर की सुबह 10 बजकर 51 मिनट तक है। पूर्णिमा श्राद्ध को श्राद्धि पूर्णिमा के नाम से भी जाना जाता है। पूर्णिमा श्राद्ध भाद्रपद माह की पूर्णिमा तिथि को किया जाता है। यह ध्यान रहे कि पूर्णिमा तिथि पर मृत्यु वालों के लिए महालय श्राद्ध की अमावस्या श्राद्ध तिथि पर किया जाता है। भाद्रपद पूर्णिमा श्राद्ध पितृ पक्ष से एक दिन पहले पड़ता है। प्रशासन से मिल रही जानकारी के अनुसार इस बार घाटों पर श्राद्ध करने पर रोक रहेगी।

0 views0 comments