• dainik kshitij kiran

कमला की कामयाबी से भारतीय उम्मीदें


अरुण नैथानी

कहना कठिन है कि भारतीय मूल की मां और जमैका मूल के पिता डॉनल्ड हैरिस की संतान कमला हैरिस का भारतीय संस्कारों और भारत से कितना लगाव बरकरार है, लेकिन भारतीय खुश हो सकते हैं कि भारतवंशी कमला हैरिस ने अमेरिका में उपराष्ट्रपति पद के लिये दावेदारी हासिल कर ली है। अमेरिका में रहने वाले भारतीयों का एक वर्ग मानता है कि कमला का रूझान भारतीयों के बजाय अफ्रीकी समुदाय के प्रति ज्यादा रहा और वे अश्वेत के मुद्दों पर ज्यादा मुखर रही हैं। लेकिन इसके बावजूद उनकी भारतीय मूल की पहचान बरकरार है। अमेरिकी चुनावों में प्रभावशाली भूमिका निभाने वाले भारतवंशियों को लुभाने के लिए वह भारत में अपने अतीत व तमिलनाडु में ननिहाल से जुड़े अनुभव साझा करती नजर आती हैं।

बहरहाल, कमला हैरिस एक बहुमुखी प्रतिभा की धनी महिला हैं। शुरुआती दौर में राष्ट्रपति पद के लिये दावा जताने वाली कमला की यह मुहिम सिरे न चढ़ सकी। कालांतर उन्होंने उपराष्ट्रपति पद के लिए डेमोक्रेटिक पार्टी की तरफ से दावेदारी हासिल कर ली। उम्रदराज जोसफ बाइडन ने अपनी रनिंग मेट के रूप में कमला हैरिस को चुना है। उन्होंने कहा भी है कि में डेमोक्रेटिक पार्टी के लिये नया नेतृत्व तैयार कर रहा हूं। जिसका मतलब है कि भविष्य में कमला अमेरिका का नेतृत्व कर सकती हैं।

चेन्नई में जन्मी श्यामला गोपालन ऐसे समय में भारत से अमेरिका के लिये निकली थी, जब किसी अकेली लड़की के लिये अकेले सात समुंदर पार जाकर पढऩा सहज संभव नहीं था। व्यावसायिक हवाई उड़ाने तब शुरू ही हुई थी। कमला के नाना-नानी ने उन्हें यह इजाजत दी। उन्होंने उन्नीस साल की उम्र में दिल्ली विश्वविद्यालय से स्नातक करने के बाद बर्कले में उच्च शिक्षा के लिये आवेदन किया। एक अनजाने देश और विश्वविद्यालय में 1958 में वह न्यूट्रीशिन और एंडोक्रनॉलाजी में पीएचडी करने निकली। कालांतर वह ब्रेस्ट कैंसर के फील्ड में रिसर्चर बन गई। मानवाधिकारों के लिये संघर्ष करते हुए बर्कले में श्यामला डॉनल्ड हैरिस के संपर्क में आई और कालांतर दोनों का विवाह हुआ। श्यामला का परिवार भारत में राजनीतिक व नागरिक आंदोलन से जुड़ा रहा है।

बहरहाल, आज कमला अमेरिका में जानी-मानी अश्वेत नेता हैं मगर उन्होंने भारतीय जड़ों को नकारा नहीं है। दरअसल, पिता से तलाक के बाद उनकी व बहन माया की परवरिश भारतीय संस्कारों के बीच श्यामला ने की। फिर कमला ने वर्ष 2014 में वकील डगलस एम्पहॉप से शादी कर ली। शादी में भारतीय व यहूदी परंपराएं निभायी गईं। लेकिन इसके बावजूद उनकी छवि एक अफ्रीकी अमेरिकी राजनेता के रूप मे उभरी है। पिछले दिनों एक अफ्रीकी मूल के अमेरिकी की पुलिस प्रताडऩा से हुई मौत के बाद उपजे 'ब्लैक लाइव्स मैटर्स आंदोलन में उनकी भूमिका के चलते उनकी यह छवि और मजबूत हुई। भारतीय व अफ्रीकी मूल के निर्णायक वोटों को नजर में रखते हुए डेमोक्रेटिक पार्टी ने उनकी दावेदारी का समर्थन दिया।

बहरहाल, आज अमेरिका में कमला की छवि एर आधुनिक व उदार मूल्यों तथा मानवाधिकारों के लिये संघर्ष करने वाली महिला के रूप में बनी है। वर्ष 2016 में सीनेटर चुनी गई कमला इससे पूर्व कैलिफोर्निया की अटॉर्नी जनरल थीं। यहां उल्लेखनीय है कि ट्रंप-मोदी फेक्टर के चलते भारतीयों के रिपब्लिकन पार्टी की ओर बढ़े झुकाव को कम करने के लिये कमला की दावेदारी को बल मिला है। बहरहाल, अमेरिका की दोनों प्रमुख पार्टियों ने आज तक किसी अश्वेत महिला को राष्ट्रपति पद का दावेदार नहीं बनाया। कमला उपराष्ट्रपति पद की उम्मीदवार बनने वाली पहली अश्वेत महिला हैं।

कैलिफोर्निया के ओकलैंड में जन्मी कमला ने हार्वर्ड यूनिवर्सिटी से पढ़ाई की जो अश्वेतों की यूनिवर्सिटी के रूप में जानी जाती है। बाद में कमला ने कैलिफोर्निया यूनिवर्सिटी से कानून की डिग्री ली और फिर वकालत आरंभ की। कमला एक मुखर व करिश्माई बहस करने वाली सीनेटर के रूप में जानी जाती हैं। उनकी गिनती सीनेट के दो महत्वपूर्ण समितियों खुफिया व न्याय में असरदार सांसद के रूप में हुई। उन्होंने अश्वेत होने को कभी अपनी कमजोरी के रूप में स्वीकार नहीं किया और कहा 'मैं वो हूं, जो हूं। रिपब्लिकन उनके वामपंथी झुकाव को लेकर उन्हें आलोचनाओं के केंद्र में रखते रहे हैं।

आज कमला अपनी भारतीय विरासत को खूब प्रचारित करती हैं। वह दक्षिण भारतीय व्यंजनों में अपनी रुचि दिखाती हैं। अपने ननिहाल के अनुभवों का जिक्र करती हैं। नाना के साथ बिताये गये क्षणों का बखान करती हैं। वह बताती हैं कि अपने मामा और दो मौसियों से उनका काफी समय तक संपर्क रहा है। अमेरिका में रहने वाला 39 लाख भारतवंशियों की उनको लेकर मिश्रित प्रतिक्रिया है। एक तबका मानता है कि आने वाले समय में अमेरिकी समाज में भारतीयों का रुतबा बढ़ेगा। वहीं एक तबका ऐसा है जो भारत के बारे में उनके प्रतिकूल रुख की बात करता है। उनका मानना है कि कमला ने सदैव अपने को भारतीय के बजाय अफ्रीकी मूल का होने के तरजीह दी है। कहा तो यहां तक गया कि उन्होंने भारत की कश्मीर नीति की आलोचना की थी, जो पाक सोच के अनुरूप थी।


0 views0 comments

Recent Posts

See All