• dainik kshitij kiran

एक और हिंदू लडक़ी का जबरन कराया निकाह

0-नहीं रुक रहा पाक में अल्पसंख्यकों पर अत्याचार


इस्लामाबाद । पाकिस्तान में आए दिन अल्पसंख्यकों पर धार्मिक अत्याचार की घटनाएं लगातार बढ़ रही हैं। हाल में ही सिंध प्रांत के जैकोबाबाद से एक हिंदू लडक़ी का अपहरण कर जबरन उसका धर्म परिवर्तन करवाया गया। बाद में एक मुस्लिम लडक़े के साथ उसका निकाह भी करवा दिया गया।

वायरल हुए एक वीडियो के जरिए ये खुलासा हुआ कि उस लडक़ी अरोक कुमारी का धर्म परिवर्तन कर मुस्लिम युवक अली रजा के साथ निकाह करा दिया गया। वीडियो में अरोक कुमारी और अली रजा एक साथ बैठे नजर आ रहे हैं। लडक़ी ने वीडियो में कहा कि उसने अपनी मर्जी से धर्म परिवर्तन कर मुस्लिम युवक से शादी की है। रिपोर्ट के अनुसार सिंध प्रांत के जैकोबाबाद की रहने वाली अरोक कुमारी उर्फ महक कुमारी का 15 जनवरी को अपहरण कर लिया गया था। जिसके बाद से जैकोबाबाद में अल्पसंख्यक समुदाय के लोग प्रदर्शन कर रहे हैं।

धर्म परिवर्तन के बाद अरोक कुमारी को अलीजा नाम दिया गया। वीडियो में लडक़ी ने कहा कि मैंने अपनी मर्जी से धर्म बदल कर इस्लाम कुबूल किया है। मेरा नया नाम अलिज़ा है। मैंने दरगाह अमरोत शरीफ में इस्लाम अपना कर अली रज़ा से निकाह किया है। लडक़ी ने आगे कहा कि मैं 18 साल की हूं। मैं अपने माता-पिता और हिंदू समुदाय के लोगों से सुरक्षा चाहती हूं। मैंने और मेरे पति ने अपनी सुरक्षा के लिए सुक्कर की एक अदालत में केस दर्ज कराया है।

0 views0 comments

Recent Posts

See All

डोनाल्ड ट्रंप ने हमेशा के लिए अपने सोशल मीडिया अकाउंट्स बंद किए

वॉशिंगटन, । अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने सोशल मीडिया की दिग्गज कंपनियों के फेसबुक और ट्विटर द्वारा प्रतिबंधित किए जाने के बाद हमेशा के लिए अपने सोशल मीडिया अकाउंट को बंद कर दिया है। उ

डब्ल्यूएचओ ने कहा, भारत में मिला कप्पा नहीं, सिर्फ डेल्टा वैरिएंट ही खतरनाक

संयुक्त राष्ट्र, । कोविड-19 के बी.1.617 स्ट्रेन का डेल्टा यानी बी.1.617.2 वैरिएंट ही दुनिया के लिए चिंता का विषय है। यह तथ्य विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के अध्ययन में सामने आया है। ज्ञातव्य है

छिन सकती है नेतन्याहू की कुर्सी, इजराइल में सरकार बनाने के लिये विरोधी विचारधारा के दल एकजुट हुए

यरुशलम । करीब दो हफ्ते पहले जब इजराइल देश में सबसे बुरे सांप्रदायिक तनाव से जूझ रहा था, गाजा से रॉकेटों की बौछार हो रही थी, तब कौन सोच सकता था कि वामपंथी, दक्षिणपंथी और मध्यमार्गी जैसी विरोधी विचारधार