इसरो की बड़ी छलांग, 36 उपग्रहों को लेकर एलएमवी-3 राकेट ने भरी उड़ान बेंगलुरु, (ए)। भारतीय अंतरिक्ष

बेंगलुरु, (ए)। भारतीय अंतरिक्ष एजेंसी इसरो ने शनिवार-रविवार आधीरात बाद 12:07 बजे अंतरिक्ष के क्षेत्र में इतिहास रच दिया। इसरो ने इतिहास रचते हुए वाणिज्यिक उपग्रह प्रक्षेपण बाजार में कदम रखा। भारतीय अंतरिक्ष एजेंसी के सबसे भारी राकेट 43.5 मीटर लंबे एलवीएम-3 (लॉन्च व्हीकल मार्क-3) ने ब्रिटिश स्टार्टअप के 36 उपग्रहों को लेकर उड़ान भरी। प्रक्षेपण आंध्र प्रदेश के श्रीहरिकोटा से किया गया। एलवीएम3-एम2/वनवेब इंडिया-1 मिशन के तहत इन संचार उपग्रहों को पृथ्वी की निचली कक्षा (एलईओ) में स्थापित किया गया। 8,000 किलोग्राम तक के उपग्रहों को ले जाने में एलएमवी-3 सक्षम है।इसरो के अध्यक्ष एस. सोमनाथ ने प्रक्षेपण पर खुशी जताते हुए कहा कि दुनिया में उपग्रहों को लॉन्च करने के लिए राकेट की कमी है। ऐसे में भारत अपने एलवीएम-3 राकेट के साथ वैश्विक वाणिज्यिक उपग्रह प्रक्षेपण बाजार में इस कमी को दूर कर सकता है। वनवेब निजी उपग्रह संचार कंपनी है। भारत की कंपनी भारती एंटरप्राइजेज वनवेब में एक प्रमुख निवेशक और शेयरधारक है। इस प्रक्षेपण के साथ ही 'एलवीएम-3' वैश्विक वाणिज्यिक उपग्रह प्रक्षेपण बाजार में कदम रखेगा।'एलवीएम-3' को पहले 'जीएसएलवी एमके-3' राकेट के नाम से जाना जाता था।

अंतरिक्ष विभाग और अंतरिक्ष एजेंसी की वाणिज्यिक शाखा के तहत काम करने वाले सार्वजनिक क्षेत्र के केंद्रीय उद्यम (सीपीएसई) न्यूस्पेस इंडिया लिमिटेड ने ब्रिटेन स्थित वनवेब के साथ दो प्रक्षेपण अनुबंधों पर हस्ताक्षर किए हैं।

वनवेब के अध्यक्ष सुनील भारती मित्तल ने कहा कि कंपनी 72 उपग्रहों को लांच करने के लिए इसरो /न्यूस्पेस इंडिया लिमिटेड को 1,000 करोड़ रुपये से अधिक का भुगतान करेगी।



6 उपग्रहों के पहले बैच को शनिवार-रविवार मध्यरात्रि को एलवीएम3 राकेट से लॉन्च किया गया। 36 उपग्रहों का प्रक्षेपण भी अगले साल जनवरी में एलवीएम 3 राकेट से होगा। वनवेब ने दुनिया भर में अपनी ब्राडबैंड सेवाओं के लिए 648 उपग्रहों को लांच करने की योजना बनाई है।

2 views0 comments