• dainik kshitij kiran

आज के क्रिकेट में फिट नहीं बैठ पाता:द्रविड़


नई दिल्ली। राहुल द्रविड़ को यह स्वीकार करने में कोई दिक्कत नहीं कि वह जिस तरह से धीमी बल्लेबाजी करते थे उसे देखते उनके लिए आज के अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में बने रहना मुश्किल होता लेकिन इसके साथ ही उनका मानना है कि रक्षात्मक तकनीकी का अस्तित्व बना रहेगा भले ही इसका महत्व कम होता जा रहा है।

द्रविड़ ने कहा कि विराट कोहली और रोहित शर्मा जैसे बल्लेबाजों ने एकदिवसीय क्रिकेट में नए प्रतिमान स्थापित कर दिए हैं लेकिन टेस्ट क्रिकेट में चेतेश्वर पुजारा जैसे बल्लेबाज की हमेशा जरूरत रहेगी। जहां तक उनकी खुद की बात है तो उन्हें रक्षात्मक कहलाने में गुरेज नहीं क्योंकि वह शुरू से ही टेस्ट खिलाड़ी बनना चाहते थे।

द्रविड़ ने पूर्व भारतीय खिलाड़ी संजय मांजरेकर के साथ ईएसपीएनक्रिकइन्फो वीडियोकास्ट में कहा, ‘अगर इसका मतलब लंबे समय तक क्रीज पर बने रहना या गेंदबाजों को थकाना या मुश्किल परिस्थितियों में नई गेंद की चमक खत्म करना है ताकि बाद में खेलना आसान हो सके तो मैं ऐसा करता था।’

उन्होंने कहा, ‘मैं इसे अपनी भूमिका के तौर पर देखता था और मुझे इस पर गर्व है। इसका मतलब यह नहीं है कि मैं वीरेंदर सहवाग के जैसे बल्लेबाजी नहीं करना चाहता था या उस तरह से शॉट नहीं खेलना चाहता था लेकिन हो सकता है कि मेरा कौशल अलग तरह का हो। मेरा कौशल प्रतिबद्धता और एकाग्रता से जुड़ा था और मैंने इस पर काम किया।’

इस पूर्व कप्तान ने इसके साथ ही कहा कि वह 300 से अधिक वनडे में खेले जिसका मतलब है कि उनकी भूमिका केवल विकेट बचाये रखने तक ही सीमित नहीं थी। द्रविड़ ने कहा, ‘निश्चित तौर पर मैं जिस तरह से बल्लेबाजी करता था अगर आज के दिनों में वैसी बल्लेबाजी करता तो मैं (टीम में) टिक नहीं पाता। आज का स्ट्राइक रेट देखो। वनडे क्रिकेट में मेरा स्ट्राइक रेट सचिन या वीरू जैसा नहीं था लेकिन तब हम उसी तरह से क्रिकेट खेला करते थे।’

उन्होंने कहा, ‘मैं अपनी तुलना कोहली या रोहित शर्मा से नहीं कर सकता हूं क्योंकि उन्होंने वनडे के प्रतिमानों को एक नए स्तर पर पहुंचा दिया है। लेकिन ईमानदारी से कहूं तो मैं एक टेस्ट खिलाड़ी बनने की सोच के साथ आगे बढ़ा था।’

क्रिकेट अब बड़े स्कोर वाला खेल बन गया है लेकिन द्रविड़ ने कहा कि रक्षात्मक बल्लेबाजी से किसी को खेल के सर्वश्रेष्ठ प्रारूप (टेस्ट) में कड़े स्पैल और मुश्किल परिस्थितियों से बाहर निकलने में मदद मिलती है।

००


0 views0 comments

Recent Posts

See All

कतर के खिलाफ मुकाबला कठिन : स्टीमैक

दोहा,। भारतीय फुटबॉल टीम के मुख्य कोच इगोर स्टीमैक ने कहा है कि कतर के खिलाफ होने वाला 2023 एशिया कप क्वालीफायर्स का मुकाबला कठिन है। स्टीमैक ने प्री प्रेस कांफ्रेंस में कहा, हम लगातार मेहनत कर रहे है

इंग्लैंड दौरे पर रवाना हुईं भारतीय पुरुष और महिला क्रिकेट टीमें

मुंबई, । भारतीय पुरुष और महिला क्रिकेट टीमें आज सुबह एक चार्टर विमान द्वारा इंग्लैंड के लिए रवाना हो गई। भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) ने ट्वीट कर उक्त जानकारी दी। यह पहली बार है, जब भारत की

इंग्लैंड में लाल गेंद से खेलना चुनौतीपूर्ण : हरमनप्रीत कौर

मुंबई, । भारतीय महिला टेस्ट क्रिकेट टीम की उपकप्तान हरमनप्रीत कौर ने कहा है कि इंग्लैंड में लाल गेंद से खेलना चुनौतीपूर्ण है और उनकी टीम इसे लेकर उत्साहित हैं। बता दें कि भारतीय महिला टीम ब्रिस्टल में