• dainik kshitij kiran

अमेरिका 9/11 हमले की तस्वीर वाले व्यक्ति की कोविड-19 से मौत


डेलरे बीच(अमेरिका) । अमेरिका में 11 सिंतबर 2001 को वर्ल्ड ट्रेड सेंटर पर हुए हमले की एक तस्वीर में धुएं के गुबार एवं मलबे से बचकर भाग रहे व्यक्ति की कोविड-19 संक्रमण से मौत हो गई। उसके परिवार ने इस बात की जानकारी दी।पाम बीच पोस्ट के मुताबिक न्यूयॉर्क के रहने वाले इस इलेक्ट्रिकल इंजीनियर स्टीफन कूपर की 28 मार्च को डेलरे बीच के मेडिकल सेंटर में कोविड-19 के कारण मृत्यु हो गई थी। वह 78 वर्ष के थे। एक समाचार एजेंसी के एक फोटोग्राफर द्वारा हमले की ली गयी वह तस्वीर, दुनिया भर के अखबारों और पत्रिकाओं में प्रकाशित हुई थी और इसे न्यूयॉर्क के 9/11 स्मारक संग्रहालय में प्रदर्शित किया गया है। कूपर की 27 वर्षीय बेटी जेसिका राशेस ने बताया, हर साल 11 सितंबर को वह पत्रिकाएं लेने जाते थे और लौटकर तस्वीर दिखाते थे। वह परिवार की पार्टी समारोहों में भी वह तस्वीर दिखाते थे। कूपर की लंबे समय तक दोस्त रही सुसैन गोल्ड का कहना है कि कूपर उस तस्वीर अपने ‘पहचान पत्र’ की तरह रखता था। उन्होंने बताया कि कूपर ने तस्वीर की एक प्रति लेमिनेट करवा कर अपने बटुए में रखी थी।तस्वीर खींचने वाली एसोसिएटेड प्रेस की फोटोग्राफर सुजैन प्लंकेट ने लिखा कि वह तस्वीर के दो अन्य लोगों के संपर्क में थीं लेकिन कूपर को वह नहीं जानती थीं। कूपर की मौत के बाद प्लंकेट ने लिखा, यह शर्मनाक है कि मैं मि. कूपर की पहचान से अनभिज्ञ थी। कूपर के 33 साल तक सहयोगी रहे जेनेट राशेस ने कहा, उन्हें पता भी नहीं था कि तस्वीर ली गयी है । अचानक उन्होंने एक दिन टाइम पत्रिका देखी । उन्होंने उसमें खुद को देखा और कहा ओ माई गॉड । यह मैं हूं । वह आश्चर्यचकित थे, उन्हें विश्वास नहीं हो रहा था ।

0 views0 comments

Recent Posts

See All

डोनाल्ड ट्रंप ने हमेशा के लिए अपने सोशल मीडिया अकाउंट्स बंद किए

वॉशिंगटन, । अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने सोशल मीडिया की दिग्गज कंपनियों के फेसबुक और ट्विटर द्वारा प्रतिबंधित किए जाने के बाद हमेशा के लिए अपने सोशल मीडिया अकाउंट को बंद कर दिया है। उ

डब्ल्यूएचओ ने कहा, भारत में मिला कप्पा नहीं, सिर्फ डेल्टा वैरिएंट ही खतरनाक

संयुक्त राष्ट्र, । कोविड-19 के बी.1.617 स्ट्रेन का डेल्टा यानी बी.1.617.2 वैरिएंट ही दुनिया के लिए चिंता का विषय है। यह तथ्य विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के अध्ययन में सामने आया है। ज्ञातव्य है

छिन सकती है नेतन्याहू की कुर्सी, इजराइल में सरकार बनाने के लिये विरोधी विचारधारा के दल एकजुट हुए

यरुशलम । करीब दो हफ्ते पहले जब इजराइल देश में सबसे बुरे सांप्रदायिक तनाव से जूझ रहा था, गाजा से रॉकेटों की बौछार हो रही थी, तब कौन सोच सकता था कि वामपंथी, दक्षिणपंथी और मध्यमार्गी जैसी विरोधी विचारधार