• dainik kshitij kiran

अमेरिकी अरबपति जेफरी ऐप्स्टेन ने किया था सूइसाइड

-पोस्टमॉर्टम में खुलासा


न्यूयॉर्क,। जेल में अपनी बैरक में मृत पाए गए अमेरिकी अरबपति जेफरी ऐप्स्टेन के पोस्टमॉर्टम में खुदकुशी की पुष्टि हुई है। एक कोरोनर ने शुक्रवार को यह जानकारी दी। मृत्यु के कारणों की जांच करने वाले सरकारी अधिकारी को कोरोनर कहते हैं। गौरतलब है कि छह दिन पहले 66 वर्षीय एपस्टीन न्यू यॉर्क की उच्च सुरक्षा वाली एक जेल में मृत पाया गया था। वह लड़कियों की तस्करी करने का आरोपी था जिनमें 14 साल की लड़कियां भी शामिल थीं। न्यू यॉर्क की मुख्य चिकित्सा अधिकारी बारबरा सैम्पसन ने एक बयान में कहा कि पोस्टमॉर्टम की पूरी रिपोर्ट समेत सभी सूचनाओं की सावधानीपूर्वक समीक्षा करके यह पता चला कि ऐप्स्टेन ने ही खुद को मारा। न्यू यॉर्क टाइम्स ने अधिकारियों के हवाले से बताया कि ऐप्स्टेन ने फांसी लगाने के लिए एक चादर का इस्तेमाल किया। यह रिपोर्ट तब आई है जब अमेरिकी मीडिया ने बताया कि पोस्टमॉर्टम की प्रांरभिक जांच से पता चला कि एपस्टीन की गर्दन की हड्डियां टूटी हुई थी। एक समय में ब्रिटेन के प्रिंस एंड्रयू और अमेरिकी राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप का दोस्त माने जाने वाले अरबपति ऐप्स्टेन पर नाबालिगों की तस्करी के आरोप थे। अभियोजकों के अनुसार, ऐप्स्टेन ने 2002 और 2005 के बीच मैनहट्टन और फ्लॉरिडा में अपने घर में दर्जनों किशोरियों का यौन शोषण किया। हालांकि, उसने आरोपों से इनकार कर दिया था। ऐप्स्टेन के वकीलों ने शुक्रवार को कहा कि वे चिकित्सा अधिकारी की जांच से संतुष्ट नहीं हैं और उसकी मौत के मामले में खुद जांच करेंगे। साथ ही उन्होंने जेल से विडियो फुटेज देखने की मांग की। एफबीआई और न्याय विभाग इस बात की जांच कर रहे हैं कि कुछ वक्त पहले आत्महत्या की कोशिश करने के महज कुछ सप्ताह बाद कैसे एक हाई-प्रोफाइल कैदी खुदकुशी कर सका।



0 views0 comments

Recent Posts

See All

डोनाल्ड ट्रंप ने हमेशा के लिए अपने सोशल मीडिया अकाउंट्स बंद किए

वॉशिंगटन, । अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने सोशल मीडिया की दिग्गज कंपनियों के फेसबुक और ट्विटर द्वारा प्रतिबंधित किए जाने के बाद हमेशा के लिए अपने सोशल मीडिया अकाउंट को बंद कर दिया है। उ

डब्ल्यूएचओ ने कहा, भारत में मिला कप्पा नहीं, सिर्फ डेल्टा वैरिएंट ही खतरनाक

संयुक्त राष्ट्र, । कोविड-19 के बी.1.617 स्ट्रेन का डेल्टा यानी बी.1.617.2 वैरिएंट ही दुनिया के लिए चिंता का विषय है। यह तथ्य विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के अध्ययन में सामने आया है। ज्ञातव्य है

छिन सकती है नेतन्याहू की कुर्सी, इजराइल में सरकार बनाने के लिये विरोधी विचारधारा के दल एकजुट हुए

यरुशलम । करीब दो हफ्ते पहले जब इजराइल देश में सबसे बुरे सांप्रदायिक तनाव से जूझ रहा था, गाजा से रॉकेटों की बौछार हो रही थी, तब कौन सोच सकता था कि वामपंथी, दक्षिणपंथी और मध्यमार्गी जैसी विरोधी विचारधार