अमलापुरम की घटना पर कांग्रेस ने आंध्र प्रदेश सरकार पर साधा जमकर निशाना


नई दिल्ली , (आरएनएस)। आंध्र प्रदेश के एक शहर का नाम बदलने के बाद वहां मंगलवार को हिंसा भड़की। इस हिंसा के बाद वहां अभी तनाव जारी है। वहीं मंगलवार को अमलापुरम में कानून-व्यवस्था की स्थिति को नियंत्रित करने में विफलता को लेकर विपक्ष ने राज्य सरकार पर निशाना साधा है। जिले का नाम बदलने पर आंध्र प्रदेश के मंत्री के घर में आग के बाद स्थिति को नियंत्रित करने में पूरी तरह विफल रहने पर विपक्ष ने सरकार की खिंचाई की। बता दें कोनसीमा जिले का नाम बदलकर डॉ भीमराव रामजी अंबेडकर रखने को लेकर तनाव हुआ इस बीच, राज्य सरकार ने कहा कि कुछ दलों और असामाजिक तत्वों ने हिंसा को भड़काया।मंगलवार को आंध्र प्रदेश के परिवहन मंत्री पिनिपे विश्वरूप और विधायक पी सतीश के घरों को स्थानीय लोगों ने आग लगा दी क्योंकि अमलापुरम शहर में कोनसीमा जिले का नाम बदलकर डॉ भीमराव रामजी अंबेडकर कोनसीमा रखने को लेकर तनाव व्याप्त था। जिले के प्रस्तावित नाम बदलने के विरोध में पुलिस द्वारा लाठीचार्ज करने के बाद स्थिति और खराब हो गई। इससे नाराज प्रदर्शनकारियों ने कथित तौर पर पथराव और आगजनी की। कई पुलिस कर्मी घायल हो गए।

अमलापुरम में धारा 144 के तहत निषेधाज्ञा लागू कर दी गई और स्थिति को नियंत्रण में लाने के लिए अतिरिक्त पुलिस बल भेजा गया। विपक्षी दलों ने कैसे प्रतिक्रिया दी। तेलुगु देशम पार्टी, भाजपा, जन सेना और कांग्रेस ने अमलापुरम स्थिति को नियंत्रित करने में विफलता को लेकर राज्य सरकार पर निशाना साधा।



0 views0 comments