अद्र्ध नग्र होकर रेलवे के निजीकरण का कांग्रेस ने किया विरोध

निजीकरण के विरोध में सीवन घाट पर अद्र्धनग्न हुए कांग्रेसी


सीहोर। शहर कांग्रेस और मध्यप्रदेश कांग्रेस कमेटी पिछड़ा वर्ग ने चुनिंदा रेल मार्गो पर ट्रेन चलाने के लिए निजी इकाइयों को अनुमति दिए जाने के फैसले के विरोध में मंगलवार को शहर के कस्बा हनुमान फाटक के समीपस्थ स्थित सीवन नदी के घाट अद्र्धनग्र होकर प्रदर्शन किया। भारतीय रेलवे के निजीकरण के खिलाफ सरकार द्वारा चुनिंदा मार्गो पर निजी ट्रेनों को चलाने के लिए निविदाएं आमंत्रित की गई थीं, जिसे लेकर कांग्रेस ने प्रदर्शन किया।

इस संबंध में जानकारी देते हुए मध्यप्रदेश कांग्रेस पिछड़ा वर्ग के जिलाध्यक्ष राजेश भूरा यादव ने बताया कि जबसे वर्तमान भाजपा की अगुवाई वाली राजग सरकार 2014 से सत्ता में आई है, तभी से कई सार्वजनिक उपक्रम और सरकारी संपत्ति निजीकरण की ओर बढ़ गई है। इसको लेकर राज्य सभा सदस्य राजमणि पटेल और प्रदेश के आह्वान पर प्रदर्शन करने के पश्चात राष्ट्रपति को पत्र लिखकर निजीकरण को रोकने की मांग की है।

रेलवे यात्रा का सबसे सस्ता साधन

शहर कांग्रेस अध्यक्ष ओम वर्मा ने कहा कि सरकार रेलवे को एक निजी व्यवसाय में बदलने का प्रयास कर रही है, जबकि आम आदमी के लिए रेलवे यात्रा का सबसे सस्ता साधन है, जिसे सार्वजनिक सेवा के तौर पर ही बने रहना चाहिए। यही वजह है कि कांग्रेस के तत्वाधान में एक प्रतीकात्मक शर्टलेस विरोध प्रदर्शन करते हुए सरकार के इस कदम का विरोध किया।

निजीकरण करने की अनुमति

कांग्रेस का कहना है कि आज देश के दर्जनों स्टेशन, कल-कारखानों को निजीकरण करने की अनुमति दे दी गयी है। यहां रेलकर्मचारी की जगह अब प्राइवेट के ठेकेदारों के चुनिंदा लोग कार्य करेंगे। इससे निश्चित ही क्वालिटी में कमी आएगी और रेल हादसों का दौर जारी हो जाएगा। उन्होंने कहा कि अगर आज हमलोग एक नहीं हुए, तो हमारा भविष्य के साथ साथ देश का भारतीय रेल का भी भविष्य अंधकारमय हो जाएगा। उन्होंने कहा कि नीति केंद्रीय कर्मचारियों के हित में नहीं है। खून पसीने की कमाई का हिस्सा अब बाजार पर डिपेंड हो जाएगा। मुनाफा हुआ तो कुछ मिलेगा, नहीं तो कुछ नहीं मिलेगा। केंद्र सरकार ने 30 साल सेवा और उम्र 55 तक ही कार्य करने की अनुमति जैसी योजना बनायी है। कई कर्मचारियों को योजना के तहत अनफिट कर दिया जाएगा। जिलाध्यक्ष राजेश भूरा यादव, शहर कांग्रेस कमेटी अध्यक्ष ओम वर्मा, वरिष्ठ कांग्रेस नेता ओम दीप, प्रदेश महामंत्री पिछड़ा वर्ग प्रकोष्ठ प्रीतम चौरसिया, वरिष्ठ उपाध्यक्ष राजेन्द्र वर्मा, हरीश आर्य, पूर्व पार्षद, पवन राठौर, मांगीलाल टिमराई, तौसिफ सईद, आसीफ अंसारी, अनिश कुरैशी, दशरथ सिंह परमार, धमेन्द्र रैकवार, रामनारायण बाथम, कल्लू भाई आदि शामिल थे।

0 views0 comments