अजाक्स भोपाल संभाग ने कमिश्नर को ज्ञापन दिया

आरक्षण के प्रावधानो को संविधान की नौवी अनुसूचि मे डाला जाए


आष्टा। अजाक्स के प्रांतीय निर्देशनुसार आरक्षण को संविधान की नौवी अनुसूचि मे डालने के लिये अजाक्स द्वारा प्रदेश् भर मे ज्ञापन दिये जा रहे है। इसी श्रंखला मे अजाक्स भोपाल संभाग द्वारा राजस्व भोपाल संभाग के कमिष्नर के माध्यम से महामहिम राष्ट्रपति एवं प्रधानमंत्री के नाम आज ज्ञापन दिया गया। अजाक्स भोपाल संभाग के अध्यक्ष बंशीलाल धनवाल ने बताया कि अनुसूचित जाति एवं जन जाति के आर्थिक एवं राजनीतिक हित तथा सामाजिक न्याय हैतु संविधान मे आरक्षण का प्रावधान किया है। लेकिन बीते या हाल के वर्षो मे आरक्षण व्यवस्था के विपरित तथाकथित लोग आंदोलन चलाकर एवं न्यायालय मे याचिकाऐं दायर कर आरक्षण के विपरित कार्रवाईयां की जा रही है। इस तरह की संविधान विरोधी कार्यवाहियों से आरक्षण की मूल अवधारणा को ठेस पहुंचाई जा रही है।

समाज मे परस्पर विषमता फैलाई जा रही है। तथा भारतीय संविधान मे प्रदत्त मौलिक अधिकारो का हनन् हो रहा है। इस तरह की कार्यवाहीयॉ से ऐसा प्रतित होता कि संविधान मे अनुसूचित जाति-जन जाति के राजनीतिक एवं आर्थिक हित तथा सामाजिक न्याय हैतु प्रदत्त आरक्षण का अधिकार या प्रावधानो मे लगातार कटौती का असफल प्रयास किये जा रहे है। जो न्यायोचित नही है। इसलिये अनुसूचित जाति एवं जन जाति को संविधान मे मिले आरक्षण के अधिकारो को न्यायिक समीक्षा से मुक्त रखने के लिये अनुसूचित जाति एवं जन जाति के राजनीतिक एवं आर्थिक हित तथा सामाजिक न्याय हेतु प्रदत्त आरक्षण को संविधान की नौवी अनुसूचि मे शामिल किये जाने के लिये भोपाल संभाग की अपर कमिश्नर को भारत के राष्ट्रपति एवं प्रधानमंत्री के नाम ज्ञापन देकर अपील है। ज्ञापन देने वाले बंषीलाल धनवाल सभागीय अध्यक्ष भोपाल संभाग, श्रीमति निर्मला पाटिल अध्यक्ष महिला मोर्चा, अशोक कुमार बेन जिलाध्यक्ष भोपाल, रमेश जाटव संभाग प्रवक्ता, टीडी. वर्मा संभाग महासचिव, एसके वर्मा, पूरण सिंह, निर्मला प्रधान, बनेश्वर भगत, विलास नागदवने, राम कर्णधार, बीपी बंसल, रेवाराम जाटव, एससी चंदन, आदि कई साथी उपस्थित थे।

0 views0 comments