अग्निपथ के विरोध में सिकंदराबाद रेलवे स्टेशन पर तोडफ़ोड़

30 बोगियों को लगाई आग, 300 लोग हिरासत में

हैदराबाद, (ए)। केन्द्र सरकार की सेना में भर्ती की अग्निपथ योजना के विरोध में युवाओं ट्रेन के एक इंजन और 30 से अधिक डिब्बों को आग लगा दी। इसके बाद तेलंगाना के विशेष कमांडो और आर्म्ड पुलिस ने सिकंदराबाद स्टेशन पहुंच कर आंदोलनकारियों को लाठीचार्ज कर ट्रैक से हटाया और तीन सौ से अधिक प्रदर्शकारियों को हिरासत में ले लिया गया है। इस संबंध में रेलवे पुलिस के महानिदेशक संदीप सांडिल्य ने बताया कि प्रदर्शनकारियों ने पूर्व निर्धारत साजिश के तहत हिंसा की है। पुलिस ने कड़ी मशक्कत के बाद लगभग नौ घंटे के बाद सिकंदराबाद स्टेशन को प्रदर्शनकारियों के कब्जे से मुक्त कराया। उन्होंने बताया कि पुलिस के विशेष दल ने सुरक्षा की व्यवस्था को संभालिया है। अब रात 7:30 के बाद सभी ट्रेनों के संचालन की बहाली पर ध्यान दिया जा रहा है। प्रदर्शनकारियों के आंदोलन की वजह से शहर के एमएमटीएस और हैदराबाद मेट्रो सहित कुल 200 ट्रेन सेवाएं प्रभावित हुईं हैं और छह ट्रेन सेवाओं को रद्द किया गया है। जबकि कई अन्य ट्रेनों का रूट तब्दील कर चलाया गया है। सिकंदराबाद के डिवीजनल रेल मैनेजर गुप्ता ने मीडिया को बताया कि आंध्र प्रदेश और तेलंगाना में भी बड़े स्तर पर प्रदर्शन हुए हैं। इसे देखते हुए दक्षिण मध्य रेलवे ने भी कई ट्रेनों के संचालन पर नजर रखने का फैसला किया है। वरिष्ठ रेलवे अधिकारी ने बताया कि उनके सभी कर्मचारी सुरक्षित हैं।तेलंगाना पुलिस ने इस आंदोलन में अब तक पुलिस फायरिंग एक युवक की मौत और 15 लोगों के घायल होने की पुष्टि की है। घायलों को स्थानीय गांधी अस्पताल में भर्ती कराया गया है। पुलिस ने तीन सौ से अधिक आंदोलनकारी को हिरासत में लिया है।



2 views0 comments